रिम्स बना बिहार की सियासत का केंद्र, ये है वजह…

0
343
lalu yadav

 

रांची: बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर झारखंड की सियासत गर्म है। फिलहाल चारा घोटाले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद रिम्स निदेशक के बंगले में इलाजरत हैं । वही बिहार से राजद नेता टिकट के लिए रांची दौड़ लगा रहे हैं रिम्स परिसर में बिहार की गाड़ियां खूब देखने को मिल रही है नेता लालू प्रसाद तक पहुंचने की हर मुमकिन कोशिश में हैं।

अगले कुछ महीनों में बिहार में विधानसभा चुनाव  होने हैं, लेकिन इसकी झलक झारखंड में खूब देखने को मिल रही है। दरअसल, चारा घोटाला के मामले में रांची में सजा काट रहे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव से टिकट की आस में मिलने आने वाले नेताओं की वजह से गुलजार है।

रांची के रिम्स स्थित निदेशक आवास के बाहर हर दिन सुबह 7 बजे से ही बिहार से आने वाले राजद नेताओं की भीड़ लगने लगती है। सभी लालू प्रसाद से मिलने की आस लेकर आते हैं लेकिन कुछ ही सफल हो पाते हैं। आज गुरुवार को भी नेताओं की भीड़ थी ज्यादातर ऐसे नेता थे, जो पूर्व में विधायक रह चुके हैं या पिछले विधानसभा चुनाव में उन्हें चंद वोटों से हार गए थे।

बक्सर के डुमरांव विधानसभा से पहुंचे  राजद के पूर्व विधायक डॉ. दाऊद अली ने बताया कि वे निजी काम से रांची आए हैं।इसलिए अपने नेता लालू प्रसाद से भी मिलना चाहते हैं। बक्सर विधानसभा चुनाव लड़ने की उनकी इच्छा जरूर है, लेकिन इस बारे में अंतिम फैसला पार्टी ही करेगी। वहीं जहानाबाद से आए ओमप्रकाश उर्फ भोली यादव ने भी टिकट के विषय पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया, लेकिन इशारों-इशारों में लालू से मिलकर जहानाबाद विधानसभा से अपनी दावेदारी जताने की इच्छा जरूर जाहिर कर दी।

अरवल के कुर्था विधानसभा से महेश प्रसाद यादव भी आए थे। राजद प्रत्याशी विधानसभा चुनाव लड़ चुके महेश एक बार फिर दावेदारी की आस लेकर रिम्स डायरेक्टर के घर के आसपास घूमते नजर आए। बताया पिछले चुनाव में महज कुछ वोटों से उनकी हार हुई थी। ऐसे में एक बार फिर वह चुनावी मैदान में अपनी किस्मत आजमाना चाहते हैं।

इधर भाजपा इस तरह लालू यादव से खुलेआम बिहार से नेताओं के मिलने को कानून का उल्लंघन बताते हुए राजद सुप्रीमो और झारखंड सरकार को निशाने पर लिया है