लालू को जेल से बाहर आने के लिए अभी और करना होगा इंतज़ार

चारा घोटाले में सज़ायाफ्ता राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की मुश्किलें कम होती नज़र नहीं आ रही हैं। चारा घोटाले के चार मामलों में से एक में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद की जमानत याचिका पर झारखंड हाई कोर्ट ने शुक्रवार(27 नवंबर) को सुनवाई 11 दिसंबर तक के लिए स्थगित कर दी है।

चारा घोटाले के मामले में लालू को 14 वर्ष तक की कैद की सज़ा सुनाई गयी थी और इस समय उनका रांची स्थित राजेन्द्र आयुर्विज्ञान संस्थान (रिम्स) में इलाज चल रहा है। बता दें कि लालू की ओर से दिल्ली से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई से जुड़े सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने लालू प्रसाद की न्यायिक हिरासत में 42 माह, 28 दिनों की हिरासत की अवधि पूरी होने की बात सिद्ध (कस्टडी प्रूफ) करने के लिए समय मांगा, जिसके बाद अदालत ने मामले की सुनवाई 11 दिसंबर तक स्थगित कर दी। वहीं लालू के स्थानीय अधिवक्ता प्रभात कुमार ने बताया कि झारखंड उच्च न्यायालय में चारा घोटाले के दुमका कोषागार से गबन से जुड़े मामले में लालू की जमानत याचिका पर अब 11 दिसंबर को आगे की सुनवाई होगी।

सीबीआई ने दलील दी कि लालू को दुमका मामले में भारतीय दंड संहिता के विभिन्न प्रावधानों के तहत सात वर्ष कैद एवं भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत भी सात वर्ष कैद की सजा सुनायी गयी है जिसे मिलाकर उनकी इस मामले में कुल सजा चौदह वर्ष की हो जाती है। अदालत ने कहा कि सीबीआई द्वारा उठाये गये इस पक्ष पर अंतिम सुनवाई के दौरान विचार किया जायेगा।

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है