जानें, क्यों रोक दिया गया UP के 700 शिक्षकों का वेतन

0
191

पूरे महीने काम करने के बाद अगर किसी को वेतन न मिले तो शायद ही कोई होगा जिसे बुरा नहीं लगेगा। UP के कुशीनगर के जिलाधिकारी ने नगर निकाय चुनाव के लिए डाटा फीडिंग नहीं कर रहे 700 शिक्षकों और कर्मचारियों का वेतन रोक दिया है। जिला प्रशासन की ओर से रविवार(6 नवंबर) को दी गयी जानकारी के मुताबिक जिले के 50 माध्यमिक और 20 संस्कृत विद्यालयों के लगभग 700 शिक्षक एवं कर्मचारियों के विरुद्ध वेतन रोकने की कार्रवाई की गई है।

जानें, पूरा मामला

कुशीनगर जिले में 55 वित्त पोषित और 20 संस्कृत विद्यालय संचालित होते हैं। नगर निकाय चुनाव में मतदान और मतगणना में बतौर कार्मिक ड्यूटी के लिए शिक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मचारियों का डाटा फीडिंग कराने के लिए जिला प्रशासन की तरफ से निर्देश दिया गया था। कई बार के निर्देशों के बावजूद अभी तक जिले के केवल 05 माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मचारी ने नगर निकाय चुनाव के लिए डाटा फीडिंग करा सके हैं। इसको गंभीरता से लेते हुए डीएम ने अभी तक डाटा फीडिंग नहीं कराने वाले सभी विद्यालयों के शिक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मचारियों का वेतन डाटा फीडिंग होने तक रोक दिया गया है।

डीआईओएस रविंद्र कुमार ने इस संबंध में बताया कि जिलाधिकारी के निर्देश पर नगर निकाय चुनाव के लिए डाटा फीडिंग नहीं कराने वाले करीब 700 शिक्षक व अन्य कर्मचारियों का वेतन बाधित किया गया है। वेतन बाधित होने के बाद शनिवार को जिले के दस विद्यालयों की तरफ से डाटा फीडिंग करवाकर साक्ष्य प्रस्तुत किया गया है। इनका वेतन जारी करने का निर्देश दिया गया है।

यह भी पढ़ें – पैरेंट्स बनते ही Alia Bhatt और Ranbir Kapoor पर होने लगी बधाई की बौछार 

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है