जानें, क्यों बेहद ख़ास है Shri Kashi Vishwanath Temple का कॉरिडोर

0
253

मंदिर तो सभी ख़ास होते हैं लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट Shri Kashi Vishwanath धाम केवल मंदिर ही नहीं यात्री सुविधाओं के नजरिये से भी ख़ास बनाया गया है। पूरा परिसर आनंद-कानन की अनुभूति भी कराएगा। बेल व रुद्राक्ष के पेड़ तो होंगे ही अशोक, नीम व कदंब की भी छाया परिसर में मिलेगी।

पहले पांच हजार स्क्वायर फीट में बना मंदिर परिसर अब 5 लाख स्क्वायर में फैल गया है। सबसे खास ये है कि पहले गंगा घाट से स्नान कर तंग गलियों से होते हुए मंदिर आना होता था। अब गंगा घाट से विश्वनाथ मंदिर जुड़ गया है। बता दें कि Kashi Vishwanath कॉरिडोर प्रोजेक्ट का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 मार्च 2019 को किया था। एक अध्यादेश के जरिए उत्तर प्रदेश सरकार ने पूरे परिसर को विशिष्ट क्षेत्र घोषित किया था। इसकी कुल लागत लगभग 900 करोड़ रुपए है।

Vishwanath धाम में अब मां गंगा भी मौजूद दिखेंगी। मंदिर गर्भगृह में बाबा Vishwanath का पाद प्रक्षालन खुद मां गंगा करेंगी। बाबा Vishwanath से गंगा के सीधे जुड़ाव के लिए एक पाइप लाइन बिछा दी गई है। एक पाइप लाइन से गंगा का जल बाबा के गर्भगृह तक आएगा जबकि दूसरी पाइप लाइन से गर्भगृह में चढ़ने वाला दूध और गंगाजल वापस गंगा में समाहित हो जाएगा।

पूरब में गंगा द्वार से मंदिर चौक, मंदिर परिसर होते हुए धाम के पश्चिमी छोर तक 108 पेड़ व वनस्पतियां लग रहे हैं। पेड़ों में बेल, अशोक और शमी को प्रमुखता दी गई है। बता दें कि Vishwanath Temple के मुख्य गर्भगृह में नक्काशीदार खंभों के पीछे की दीवार पर साहित्य और पाषाण शिल्प का अनूठा संगम है। सूर्यास्त के बाद यह गैलरी बहुरंगी प्रकाश में अनूठी आभा बिखेरेगा। गैलरी के पूर्वी हिस्से में शिव महिम्न स्तोत्र और संध्या वंदन का विधान संगमरमर के पत्थर पर उकेरा गया है। वगैलरी के दक्षिणी हिस्से में संगमरमर से उकेरी गई थ्रीडी आकृतियों में बाबा Vishwanath और माता गंगा से जुड़े प्रसंगों को दर्शाया गया है। उन चित्रों के नीचे उस प्रसंग का सार भी अंकित है।

गंगा द्वार और मुख्य परिसर के बीच बना मंदिर चौक 30 हैवी लाइट से जगमग हो गया है। ये लाइटें उत्तर से दक्षिण की ओर पांच कतारों में लगाई जाएंगी। प्रत्येक कतार में छह हैवी लाइट हैं। Vishwanath Temple के दोनों ओर बसे मोहल्लों में लोगों को सरस्वती फाटक की ओर जाने के लिए लंबा चक्कर नहीं लगाना होगा। विश्वनाथ धाम के लोकार्पण के साथ ही सरस्वती फाटक और नीलकंठ द्वार जनता के लिए खोल दिए जाएंगे।

काशी विश्वनाथ धाम को खुबसूरत और भव्य बनाने के साथ ही उसकी सुरक्षा पर भी गंभीरता बरती गई है। अत्याधुनिक उपकरणों से लैस कंट्रोल रूम बनाया गया है। कॉरिडोर में सभी प्रवेश द्वार के अलावा अलग-अलग जगहों पर तैयार वाच टावर पर अत्याधुनिक असलहे से लैस जवानों की तैनाती है। तीन शिफ्ट में 24 घंटे इनकी तैनाती होगी।

यह भी पढ़ें – CM Yogi का निर्देश, फ्री राशन पाने के लिए करना होगा ये काम

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है