गर्मी आते ही दिल करता है कि कुछ ठंडा ठंडा पीने को मिल जाए। यही वजह है कि गर्मियों में सॉलिड आइटम से ज्यादा लिक्विड आइटम को ज्यादा महत्व दिया जाता है। ऐसे में चिलचिलाती गर्मी में छाछ शरीर को तरोताज़ा महसूस कराने में कामयाब होती है। नमकीन या मीठे छाछ से भरा एक गिलास आपको हाइड्रेटेड रखने के साथ ही पेट भी फुल कर देता है।

छाछ को आप अपने स्वाद के अनुसार तैयार कर सकते हैं। वहीं गर्मियों में Dahi का सेवन भी खूब किया जाता है, लेकिन छाछ को Dahi से ज्यादा बेहतर माना जाता है। छाछ का इस्तेमाल करके आप तरह-तरह के खाने में उपयोग कर सकते हैं। साउथ इंडिया में छाछ की मदद से स्पेशल सांभर बनाया जाता है। गुजरात में छाछ से कढ़ी, हांडवो और ढोकला बनाया जाता है। छाछ की मदद से आप केक, कुकीज भी बना सकते हैं।

जानें, गर्मियों में छाछ पीनी चाहिए या फिर Dahi

  • Dahi में पानी डालकर मथकर छाछ बनाई जाती है।
  • वहीं ये मथने की प्रक्रिया Dahi में मौजूद प्रोटीन को तोड़ देती है, जिससे इसे पचाना आसान हो जाता है।
  • Dahi की तुलने में छाछ में कैलोरी भी कम होती है।
  • 100 ग्राम छाछ में 40 कैलोरी होती है, जबकि 100 ग्राम Dahi में लगभग 100 कैलोरी होती है।
  • गर्मियों के मौसम में हल्का खाना खाने की सलाह दी जाती है, जो जल्दी डाइजेस्ट हो जाए।
  • ऐसे में ठंडी छाछ प्लस प्वॉइंट है क्योंकि ये प्यास बुझाने के साथ शरीर को ठंडा रखता है। छाछ डिहाइड्रेशन से बचाता है।

यह भी पढ़ें – हर Bengali घर में खास मौक़े पर बनाई जाती है ये डिश

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है