धोनी के क्रिकेट की दुनिया को अलविदा कहने से फैंस में निराशा

सिर्फ धोनी के फैंस ही नही बल्कि पूरा देश ही धोनी के रिटायरमेंट से दुखी हैं। जहां एक तरफ धोनी के फैंस को ये लग रहा है कि अब वो अपने मनपसंद प्लेयर को खेलते नही देख पाएंगे वही उन्हें ये भी लग रहा है कि अब धोनी क्या करने वाले हैं। तो आपको बता दें कि अब वह टेरिटोरियल आर्मी के साथ अधिक समय बिताएंगे।

लेफ्टिनेंट कर्नल महेंद्र सिंह धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लिया सन्यास

रांची का एक लड़का जो लंबे-लंबे बाल रखता था, खेलता ऐसा कि सिर्फ छक्के मारना जानता था। 2004 में जब धोनी की एंट्री भारतीय टीम में हुई, तो कई विशेषज्ञों ने कई तरह के सवाल खड़े किए। क्योंकि धोनी अब तक आए बल्लेबाजों से अलग थे, ना उनके पास किताबी तकनीक थी और ना ही वैसा लंबा रिकॉर्ड। लेकिन, धोनी में उस वक्त एक निडरता थी, जिसकी दुनिया दीवानी बनी। अब यही दीवानगी फैंस को उनकी कमी का एहसास करा रही है। हर प्लेयर रिटायरमेंट के बाद अपने कुछ प्लान बनता है। कुछ तो पॉलिटिक्स ज्वाइन कर लेते हैं।

क्या धोनी भी पॉलिटिक्स ज्वाइन करने वाले हैं। कुछ ऐसे ही सवाल धोनी के चाहने वालों के दिमाग में घूम रहे हैं। आपको बता दें कि धोनी टेरिटोरियल आर्मी के साथ अधिक समय बिताएंगे। धोनी के दोस्त और व्यापारिक साझेदार अरुण पांडे ने कहा कि मैं यह बात जानता था कि वह जल्द संन्यास लेंगे, लेकिन एकदम सही समय मुझे नहीं पता था, हालांकि यह तो उन्हें ही तय करना था। उन्होंने इस साल के शुरुआत में आइपीएल की तैयारियां शुरू कर दी थी, लेकिन वह स्थगित हो गया था और उसके बाद टी-20 विश्व कप भी अगले साल के लिए टल गया। ऐसे में उन्होंने मानसिक रूप से आजाद होने की सोची।

 हार्दिक के बेटे को लेकर राहुल ने जताई इच्छा, क्रिकेट में…

दरअसल धोनी टेरिटोरियल आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल हैं। 2019 विश्व कप के बाद धौनी ने पैराशूट रेजीमेंट के साथ एक महीना बिताया था। पांडे ने कहा कि एक बात तय है कि अब वह सेना के साथ ज्यादा समय बिता सकेंगे। अब वह अपने बिजनेस और और अन्य प्रतिबद्धताओं पर भी ध्यान दे सकेंगे। हम लोग जल्द साथ बैठेंगे और आगे बढ़ेंगे। ज्यादातर केस में संन्यास लेने के बाद खिलाड़ी की ब्रांड वैल्यू घट जाती है, लेकिन पांडे को लगता है कि धोनी के मामले में ऐसा नहीं होगा। पांडे ने कहा कि 2019 के बाद से हमने 10 नई कंपनियों से करार किए हैं और यह लंबे करार हैं। यह आगे भी रहेंगे, क्योंकि धोनी सिर्फ क्रिकेटर नहीं हैं, यूथ आइकन हैं। वह अगले दो से तीन सत्र तक आइपीएल खेलेंगे। अब वह फ्री हैं। टी-20 विश्व कप का आगे खिसकना जरूर उनके संन्यास का एक फैक्टर रहा है।

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है