Jharkhand : बोतल को माइक बना School की रिपोर्टिंग करता दिखा नन्हा रिपोर्टर, खोली School की पोल

0
178

School एक ऐसी जगह होता है जहां बच्चों को ज्ञान दिया जाता है लेकिन हमारे देश में आज भी गांव के स्कूलों की जो हालत है उसके बारें में काफी लोग जानकर भी अनजान बने रहते हैं यही वजह है कि ऐसे School में कोई भी पढ़ना नहीं चाहता लेकिन पैसों की कमी के चलते गरीब लोग अपने बच्चों को ऐसे स्कूलों में पढ़ने को भेजते हैं। गोड्डा के 12 वर्षीय छात्र सरफराज ने पत्रकार बन School की बदहाल व्यवस्था की पोल खोल दी है।

सोशल मीडिया पर सरफराज का वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें महागामा के भिखियाचक प्राथमिक विद्यालय में छात्र सरफराज हाथ में लकड़ी और प्लास्टिक की बोतल को माइक बना School की रिपोर्टिंग करता दिख रहा है। वीडियो में सरफराज बोल रहा है-‘अब मैं अपने गांव के उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय भिखियाचक के हालात दिखा देता हूं।’ वीडियो में सरफराज अपने साथी से सवाल-जवाब करता दिखाया गया है। School में शिक्षक नदारद रहते हैं। परिसर में बड़े-बड़े झाड़ उग गए हैं। न पेयजल की व्यवस्था है और न शौचालय की। क्लास रूम में चारा रखा हुआ है।

वीडियो वायरल होने के बाद School कैम्पस की सफाई करवा दी गई है। साथ ही गोड्डा की डीएसई रजनी देवी ने भिखियाचक प्राथमिक विद्यालय के दो शिक्षकों की बर्खास्तगी की अनुशंसा की है। ग्रामीण यह बताते हैं कि School की हालत वाकई बहुत खराब थी। बच्चों की पढ़ाई-लिखाई नहीं हो पा रही थी। कम से कम इस बच्चे की हिम्मत के कारण स्थितियां बदल जाए तो अच्छा है। हालांकि इस संबंध में रिपोर्टिंग करने वाले छात्र सरफराज ने बताया कि वीडियो वायरल होने के बाद से शिक्षकों ने उसके घर जाकर धमकी भी दी। सरफराज का कहना है कि शिक्षकों ने मेरी मम्मी से बोला कि अपने बच्चे को संभालो नहीं तो अच्छा नहीं होगा।

भिखियाचक प्राथमिक विद्यालय सरिया पंचायत में पड़ता है उस पंचायत के मुखिया एमडी हबीब ने बताया कि School की हालत बदहाल है, कुछ दिन पहले भी गया था तो वहां पर जंगल झाड़ देखा गया था। इस बात को लेकर अभी मैं नया हूं इसलिए मैंने शिकायत नहीं की थी। लेकिन अब मैं इसे अपने तरीके से देखूंगा और आगे सुधार के लिए प्रयास करूंगा। महागामा के बीईओ हरिप्रसाद ठाकुर ने कहा कि यहां पर अभियान विद्यालय खोला गया था और हर अभियान विद्यालय में 2 शिक्षक देने का प्रावधान था। उसी के तहत वहां 2 शिक्षक दिया गया था। दोनों ही पारा शिक्षक हैं और उसी गांव के हैं।

इतना ही नहीं कुछ दिनों से मध्याह्न भोजन बंद था और लापरवाही बरती गई थी। साफ-सफाई बिलकुल नहीं था। जो वीडियो वायरल हुआ उसके बाद से स्थिति में सुधार हुआ है। दोनों शिक्षक मोहम्मद रफीक और मोहम्मद तमीजुद्दीन पर आज कार्रवाई के लिए लिखा गया है और जिला शिक्षा अधीक्षक रजनी देवी ने इसकी अनुशंसा भी कर दी है। महागामा के बीडीओ प्रवीण चौधरी ने बताया कि School खुलने के समय एसडीओ और बीईओ के साथ में गए थे। School की स्थिति का जो वीडियो वायरल हुआ है, वह एक तरह से सच है। कार्रवाई के लिए अनुशंसा की है।

यह भी पढ़ें – मैं महंगाई और बेरोज़गारी के खिलाफ़ बोलना जारी रखूंगा : Rahul Gandhi

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है