इन गाइडलाइन के साथ खुला Kartarpur Corridor

0
205

Coronavirus का ख़तरा कम होते ही पाकिस्तान में स्थित सिखों के सबसे पूजनीय तीर्थस्थलों तक जाने के लिए Kartarpur Sahib Corridor को आज से एक बार फिर से खोला जा रहा है। साल 2019 में इस Corridor का उद्घाटन हुआ था लेकिन अब इस यात्रा को करने के लिए श्रद्धालुओं को कुछ नियमों का पालन करना होगा।

भारत ने 24 अक्टूबर, 2019 को पाकिस्तान के साथ Kartarpur Corridor समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। समझौते के तहत, सभी धर्मों के भारतीय तीर्थयात्रियों को 4.5 किलोमीटर लंबे मार्ग के माध्यम से साल भर वीजा मुक्त यात्रा करने की अनुमति दी गई थी।

नई गाइडलाइन के तहत सिर्फ वही लोग पाकिस्तान जा सकते हैं, जिन्होंने Corona Vaccine की दोनों डोज ली है। इसका मतलब यह भी है कि सभी श्रद्धालुओं को अपने साथ निगेटिव RT-PCR report और Covid Vaccination Certificate रखना होगा। बता दें कि Kartarpur Sahib Corridor पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब को भारत के गुरुदासपुर में मौजूद सिखों के पवित्र पूजनीय स्थल डेरा बाबा नानक से जोड़ता है। Kartarpur Sahib Gurdware का सिखों के लिए इसलिए भी महत्व है क्योंकि इसी गुरुद्वारे में उनके गुरु नानक देव ने जीवन के आखिरी बरस बिताए थे और देह त्यागी थी।

Kartarpur Corridor साल 2019 में ही खुल गया था लेकिन महज चार महीने के अंदर ही Corona की वजह से इसे मार्च 2020 में बंद कर दिया गया था। अब इस तीर्थस्थल को करीब डेढ़ साल बाद एक बार फिर से खोला जा रहा है। भारत सरकार ने मंगलवार को इस संबंध में ऐलान किया। बता दें कि 19 नवंबर को गुरुनानक देव की जयंती है, जिसे प्रकाश पर्व के तौर पर मनाया जाता है।

गृह मंत्रालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक, भारत सरकार ने इस यात्रा को Corona की स्थिति में सुधार को देखते हुए एक बार फिर से चालू करने का फैसला लिया है। इसके तहत हर दिन भारत के करीब 100-200 श्रद्धालु Kartarpur Sahib Corridor से पाकिस्तान पहुंच सकते हैं। भारत और Pakistan दोनों ही ओर का प्रशासन दैनिक आधार पर तीर्थयात्रियों की सूची जांचेंगे। हालांकि, Corridor पर 19 नवंबर को ही सबसे ज्यादा श्रद्धालुओं के जुड़ने की उम्मीद है। Kartarpur Sahib की यात्रा के लिए पंजीकरण इस लिंक पर जाकर कराया जा सकता है।

इस बार Kartarpur Sahib Corridor पर श्रद्धालुओं को तापमान चेक करवाने के साथ ही सैनिटाइजेशन प्रक्रिया से गुजरना होगा। वहीं, मास्क लगाना और Social Distancing का ध्यान भी देना होगा। सभी श्रद्धालुओं को अपने साथ निगेटिव RT-PCR Report रखना होगा, जो 72 घंटे से ज्यादा पुरानी नहीं होनी चाहिए। Corona Vaccination का सर्टिफिकेट भी अनिवार्य है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, श्रद्धालुओं को पाकिस्तान पहुंचने पर Rapid Antigen Test भी करवाना होगा। हालांकि, इसके बाद उन्हें किसी तरह की जांच नहीं करवानी होगी। साथ ही, यात्रियों को पाकिस्तान के Corona संबंधी नियमों को मानना होगा क्योंकि दर्शन उनके क्षेत्र में होगा। अगर किसी को को यात्रा के दौरान Corona के लक्षण दिखेंगे, तो उन्हें आइसोलेशन में भेजा जा सकता है।

यह भी पढ़ें – UP पकड़ेगा रफ़्तार, जल्द ही UP में होंगे 6 Expressway

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है