UP में अब ख़त्म होगा फर्जी डिग्रियों पर Job का खेल, ट्रैक होगी पढ़ाई

0
226

भारत देश में हर काम में जुगाड़ चलता है लेकिन अब UP में Job पाने के लिए कोई जुगाड़ काम नहीं आएगा। अब फ़र्ज़ी डिग्रियों या अंकपत्र के बहाने Job पाने वालों की खैर नहीं। विद्यार्थियों की पढ़ाई-लिखाई का ब्यौरा रखने के लिए राज्य सरकार यूनिवर्सल लर्नर पासपोर्ट की व्यवस्था करने जा रही है। इस पासपोर्ट में न सिर्फ उसके सीखने का पूरा सफर दर्ज किया जाएगा बल्कि इसके ‘डिजिटल तिजोरी’ में सभी प्रमाणपत्र व अंकपत्र संस्थान स्तर से अपलोड होंगे। इससे Job के आवेदन के समय युवा फर्जी अंकपत्र या प्रमाणपत्र नहीं लगा सकेंगे क्योंकि उनका सत्यापन इसी तिजोरी से होगा। इसलिए अब किसी तरह से कोई गड़बड़ी होना नामुमकिन हो जाएगा।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति में विद्यार्थियों की ट्रैकिंग का नियम है। राज्य सरकार इसके लिए प्रस्ताव मांगने जा रही है। UP इसे शुरू करने वाला पहला राज्य होगा। प्रदेश में इस योजना को चरणबद्ध ढंग से लागू किया जाएगा। इसकी शुरुआत कक्षा एक से आठ तक होगी लेकिन भविष्य में इसे प्ले ग्रुप से लेकर परास्नातक और प्रोफेशनल पढ़ाई में भी लागू किया जाएगा। इसका कांसेप्ट नोट, नियम व शर्ते समेत अन्य आधारभूत तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। तकनीकी साझेदारी के लिए जल्द ही प्रस्ताव मांगा जाएगा। यूपी में निजी, सरकारी, व्यावसायिक स्तर पर पढ़ाई करने वाले पांच करोड़ विद्यार्थी हैं।

अब फर्जी प्रमाणपत्रों के सहारे Job पाने वालों पर भी लगाम लगेगी क्योंकि यह लागू होने के बाद प्रमाणपत्रों का सत्यापन डिजिटल तिजोरी से ही होगा। सत्यापन के लिए अंकपत्र या प्रमाणपत्र विभिन्न बोर्डों या फिर विश्वविद्यालयों को नहीं भेजे जाएंगे। अभी सबसे ज्यादा खेल सत्यापन में होता है और बाबुओं की सांठगांठ से सत्यापन का मामला अटकाए रखा जाता है। लर्नर पासपोर्ट से एक बच्चे का नामांकन दो जगह नहीं हो सकेगा। इससे नामांकन के फजीवाड़े पर भी नकेल कसेगी। एक ही वक्त में दो डिग्रियां हासिल करने पर भी लगाम लगेगी। स्कॉलरशिप आदि के लिए फजीवाड़ा नहीं हो सकेगा क्योंकि फर्जी अंकपत्र, जाति या आय प्रमाणपत्र नहीं लगाया जा सकेगा। भविष्य में यूनीक आईडी से ही पात्र विद्यार्थियों को चयनित करके स्कॉलरशिप देने पर भी काम हो सकता है। इस पासपोर्ट से एक बच्चे की पढ़ाई से लेकर Job तक ट्रैक की जा सकेगी और आउट ऑफ स्कूल बच्चों को पढ़ाई की मुख्यधारा में लाने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें – जनता को मुफ्त सुविधाएं देने से आर्थिक संकट नहीं आएगा : Arvind Kejriwal

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है