बोरवेल में गिरा मासूम- 76 घंटों से रेस्क्यू जारी, आज रात तक मिल सकती है कामयाबी

0
695
niwadi collector ashish bhargava

निवाड़ी: एमपी में निवाड़ी जिले के सैतपुरा बारह गांव में बोरबेल में गिरे बच्चे को सुरक्षित निकालने के लिए करीब 76 घंटे से चल रहा रेस्क्यू कार्य अब भी जारी है। एनडीआरएफ और सेना की टीम अब तक करीब 60 फीट सुरंग की खुदाई कर चुकी है। अभी करीब 6 फीट खुदाई होना शेष है। 4 साल के प्रह्लाद कुशवाहा को बोरबेल में फंसे करीब 76 घंटे हो चुके हैं। मगर अब तक अपने अंजाम तक नहीं पहुंच पाया है। इस अभियान में बड़ी बाधा पानी बना हुआ है, क्योंकि रिसाव के कारण पहले पानी निकालना होता है और उसके बाद ही अभियान आगे बढ़ पाता है।

बात दे निवाड़ी जिले के सेतपुरा गांव में हरिकिशन का चार साल का बेटा प्रह्लाद बुधवार की सुबह खेत में खोदे गए दो सौ फुट गहरे बोरवेल में गिर गया था, उसके बाद से ही बच्चे को सुरक्षित निकालने के लिए राहत और बचाव अभियान चलाया जा रहा है। एनडीआरएफ, सेना और अन्य राहत व बचाव दल ने बोरवेल के समानांतर 60 फुट से गहरा गड्ढा खोदा और सुरंग बनाई। सुरंग बनाने का काम अंतिम चरण में है। जिलाधिकारी आशीष भार्गव ने संवाददाताओं को बताया कि अभियान जल्दी ही पूरा हो जाएगा, बीच-बीच में पानी आ जाने से कुछ दिक्कत होती है। पानी निकाला जाता है। सभी दल अपने अभियान को बिना रोक जारी रखे हुए है।

बच्चा जिस गड्ढे में गिरा है, उसमें लगातार ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। वहीं कैमरे के जरिए उसकी हर हरकत पर नजर रखी जा रही है। इसके साथ ही मौके पर एम्बुलेंस के साथ चिकित्सकों का दल पूरी तरह तैयार है। प्रह्लाद के परिवार के सदस्य भी मौके पर हैं और राहत व बचाव कार्य के चलते यह आस लगाए हुए है कि उनका बच्चा सुरक्षित निकल आएगा। हरिकिशन ने अपने खेत में बोरवेल के लिए दो सौ फुट गहरा गड्ढा खुदवाया था। उसका बेटा प्रह्लाद खेलते समय उसी गड्ढे में गिर गया था। बुधवार से राहत और बचाव का काम जारी है।