बूढ़े मां-बाप की सेवा न करने पर भगवान नहीं बल्कि Yogi सरकार देगी सज़ा

अपने बच्चों के लिए जमा पूंजी भी लूटा देने वाले माता पिता को बच्चे बुढ़ापे में बेकार सामान की तरह समझने लगते हैं लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। बुजुर्ग मां-बाप की Property पाने के बावजूद उनकी देखरेख न करने वाली संतानों की अब खैर नहीं होगी। Uttar Pradesh में Yogi सरकार जल्दी ही एक ऐसा कानून आने वाला है जिसके जरिए अगर कोई बच्चा अपने मां-बाप की सेवा नहीं करता है तो उन्हें दी गई Property को वापस लिया जा सकता है।

Uttar Pradesh State Law Commission (UPSLC) ने शुक्रवार को इस संबंध में Chief Minister Yogi Adityanath को प्रस्ताव सौंपा है। बता दें कि UPSLC ने अपने प्रस्ताव में ‘माता-पिता तथा Senior citizens के (Maintenance and welfare law) भरण पोषण एवं कल्याण कानून-2007’ में संशोधन का प्रस्ताव दिया है। प्रस्ताव में यह भी कहा गया है कि अगर कोई बुजुर्ग शिकायत करता है तो तो मां-बाप की ओर से अपने बच्चे या वारिस को दी गई संपत्ति(Property) की Registry या दानपत्र को भी निरस्त(Cancel) कर दिया जाएगा।

ब्रिटेन ने पाकिस्‍तान और बांग्‍लादेश को रेड लिस्‍ट में डाला

UPSLC ने यह भा बताया कि ज़्यादातर मामलों में बच्चे मां-बाप की Property के एक बड़े हिस्से पर कब्जा रखते हैं जबकि बुजुर्गों को गुजर-बसर के लिए Property का छोटा सा हिस्सा दे दिया जाता है। हालांकि, प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के बाद बुजुर्ग मां-बाप(Elderly parents) की सेवा न करने वालों को Property से ही बेदखल कर दिया जाएगा।

UPSLC ने कानून(Law) का अध्ययन करने के बाद सौंपी गई अपनी पूर्व की 13 रिपोर्टों में यह बताया था कि कई मामलों में बूढ़े माता-पिता को उनके ही बच्चे उनकी Property से निकाल देते हैं, या उनका ख्याल रखने की जगह घर में माता-पिता से पराया व्यवहार करते हैं। प्रस्ताव में यह भी कहा गया है कि अगर कोई बच्चा या रिश्तेदार बुजुर्गों के घर में रहता है और उनकी देखभाल नहीं करता, या फिर उनसे अनुचित behavior करता है तो उन्हें घर से निकाला जा सकता है।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है