Coronavirus का ख़तरा और Oxygen न मिल पाने की वजह से लोग अपनी जान गवां रहे हैं। दूसरी लहर में स्वास्थ्य सेवाएं चरमराने लगी हैं। रोजाना रिकॉर्ड मामलों के सामने आने की वजह से मरीजों को बेड्स, Oxygen मिलने में मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। कई मरीज तो कई अस्पतालों के चक्कर काट रहे हैं, जिसके बावजूद भी उन्हें सही समय पर इलाज नहीं मिल पा रहा।

दूसरी लहर के कई दिन बीत जाने के बाद भी Oxygen और अस्पतालों में Beds की किल्लत जल्द दूर होती हुई नहीं दिखाई दे रही है। इन सबके बीच, AIIMS के डायरेक्टर Randeep Guleria ने सोमवार को बताया है कि आखिर में Corona मरीजों को इलाज क्यों नहीं मिल पा रहा है। Guleria ने एक दिन पहले भी Corona से लड़ने के लिए देशवासियों को कई तरह की सलाह दी थी।

AIIMS डायरेक्टर ने बताया, ”जो Corona पॉजिटिव आता है, उसमें यह पैनिक हो जाता है कि कहीं मुझे बाद में Oxygen और अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं पड़ जाए, इस वजह से मैं अभी ही भर्ती हो जाता हूं। इस वजह से अस्पतालों के बाहर बहुत भीड़ हो जाती है और वास्तविक मरीजों को इलाज नहीं मिल पाता है।” उन्होंने यह भी बताया कि इसी पैनिक की वजह से घर पर पहले से ही दवाइयां शुरू कर देते हैं उस वजह से मार्केट में ड्रग्स की कमी हो जाती है। पहले ही दिन सभी दवाई शुरू करने की वजह से Side Effect होने लगते हैं और कोई फायदा नहीं होता है।

अस्पतालों में Oxygen की कमी के बीच Guleria ने बताया कि कई लोग सोचते हैं कि अभी से ही Oxygen घर पर रख लेता हूं, जिससे आने वाले समय में कमी नहीं होगी। यह सब गलत धारणाएं हैं। Oxygen Covid-19 में बहुत जरूरी है, लेकिन इसका मिसयूज बहुत बड़ा फैक्टर है। Guleria ने यह भी बताया कि हमें Corona के मामलों में कमी लानी होगी और अस्पतालों के रिसोर्सेज का बेहतर इस्तेमाल करना होगा। Oxygen का विवेकपूर्ण इस्तेमाल काफी जरूरी है।

यह भी पढ़ें: Corona का आतंक बरक़रार, भारत में सामने आ रहे हैं हर दिन 3 लाख से ज्यादा मामले

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है