बिहार से लेकर उत्तर प्रदेश के गाजीपुर के गंगा नदी में आए दिन शव देखने को लगातार मिल रहा है। अब ऐसे में सवाल ये उठ रहा है कि इससे पर्यावरण पर क्या प्रभाव पड़ रहा है। कोरोना की दूसरी लहर ने इस कदर तबाही मचा रखी है रोज हजारों की कोरोना संक्रमण से मौते हो रही है। जिसके कारण लोगो को अंतिम संस्कार के लिए जगह नहीं मिल पा रहा है ऐसे में मृतक के परिजन शव को गंगा में प्रवाह कर रहा है। बीते दिन बिहार के भोजपुर जिला के गंगा नदी में तकरीबन पांच शव मिलने से ग्रामीण समेत पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया।

इसी कड़ी में जब उच्चस्तरीय अधिकारियों को शव मिलने की भनक लगी तो अधिकारी दल बल के साथ मेडिकल टीम को लेकर गंगा नदी के पास पहुंची। और लाशों की खोजबीन के लिए नदी में दो नावों को उतारा गया। उसके बाद पेट्रोलिंग के दौरान तीन और शव मिले जिन्हें नदी से निकाला गया.जिसमे एक महिला और दो पुरुष के शव थे। मौजूद मेडिकल टीम ने शवों का परीक्षण करने के उपरांत उसका बिसरा सुरक्षित रखने के बाद जेसीबी से गड्ढा खोदकर तीनों लाशों को उसमें दफन कर दिया।

वही शवों के तलाश में लगातार नाव के साथ मेडिकल के टीम पेट्रोलिंग कर रहें है ताकि तमाम सावधानियां बरतते हुए नदी में से मिलने वाले लाशों का डिस्पोजल तुरंत किया जा सके। वही सिन्हा घाट पर गंगा नदी में तकरीबन पांच लाशो को देख डीएम रोशन कुशवाहा को इस पूरे मामले की जानकारी हुई, तो उन्होंने पुलिस प्रशासन के साथ अफसरों को सिन्हा घाट पर गंगा नदी के लिए रवाना कर दिया।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है