इंसान की ज़िन्दगी का एक ज़रूरी काम शादी भी माना जाता है लेकिन अब इस काम को धूमधाम से नहीं बल्कि अब निपटाना भी मज़बूरी बन गया है। Corona संक्रमण के खतरों के बीच सरकार की नई Guideline ने अप्रैल व मई में गोरखपुर में होने वाली 2500 से अधिक शादियों के जश्न में खलल डाल दिया है। Marriage Hall में 100 और खुले स्थान(Open space) में 200 व्यक्तियों की ही उपस्थिति के निर्देश ने Marriage Hall से लेकर Catering का काम करने वालों को मुश्किल में डाल दिया है।

नई Guideline से 300 करोड़ से अधिक की Wedding Industry संकट में फंसती दिख रही है। बता दें कि इस बार जनवरी से लेकर मार्च के बीच चुनिंदा लगन थी। लोगों ने अप्रैल और मई में शादियों को शिफ्ट कर दिया। अप्रैल और मई में 20 से अधिक तारीखों में 2500 शादियां होनी हैं। अन्य तिथियों में भी Wedding Ceremony आयोजित हैं। Corona Infection के बढ़ते खतरों के बीच सरकार की नई Guideline ने Wedding Ceremony वाले घरों की मुश्किलें बढ़ा दी है। सर्वाधिक मुश्किल में मैरेज हाल और रिसोर्ट वाले हैं। मेडिकल रोड के एक वीआईपी रिसोर्ट में पहले से काफी Booking हुई है। अब मेहमानों की संख्या और खर्च को लेकर विवाद शुरू हो गया है। मैरेज हाल वालों ने काफी कम रकम में Advance Booking कर ली थीं। अब मैरेज पार्टियां न तो एडवांस दे रही हैं न ही मेहमानों की संख्या को लेकर स्थितियां साफ कर रही हैं।

Wedding Season पर Poultry Industry की भी काफी हद तक निर्भरता है। नई Guideline से इस उद्योग पर प्रभाव पड़ना तय है। Poultry Farm संचालक जित्तन जायसवाल का कहना है कि जहां 500 से 1000 लोगों का खाना बनना प्रस्तावित हो वहां 100 से 200 में संख्या सिमटेगी तो स्थितियां बिगड़ेगी ही। Booking Order को लेकर फोन आने लगे हैं। होटलों की Booking भी प्रभावित होने लगी है।

Flower Decoration और बैंड वालों की Booking पर असर दिखने लगा है। भव्यता से होने वाली शादियों में फूल के डेकोरेशन की बुकिंग 2 से 3 लाख रुपये में होती है। इसके लिए कारोबारियों ने महंगा स्ट्रक्चर भी तैयार कर लिया है। डेकोरेशन का काम करने वाले प्रमोद श्रीवास्तव का कहना है कि लोग अब Booking की राशि को घटाने की सिफारिश कर रहे हैं। Lighting का काम करने वाले लोहा गुप्ता का कहना है कि लाइटिंग के काम पर पहले से ही ग्रहण लगा हुआ है। अब बंदिशों में शहनाई से रही सही उम्मीद भी खत्म हो गई है।

यह भी पढ़ें: बिना हाथ की लकीरों के ही क़िस्मत लिख रहा ये दिव्यांग

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है