UP Panchayat Election में किसी तरह की कोई गलती न हो इसके लिए चुनाव आयोग अपनी तरफ से कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता है। यूपी पंचायत चुनाव में प्रत्याशी को हर खर्चे का हिसाब देना है। तय सीमा के अंदर ही खर्च करना है। प्रत्याशी को दरी, चादर, कुर्सी और गद्दा से लेकर चाय, भोज व गाड़ी तक का हिसाब देना पड़ेगा।

ख़र्चे का हिसाब रखने के लिये निर्वाचन आयोग ने लिस्ट जारी कर दी है, जिसके अनुसार हिसाब देना होगा। गाड़ी से लेकर बांस, बल्ली और रिक्शा तक का किराया चुका कर हिसाब चुकाना पड़ेगा। बता दें कि जिला निर्वाचन विभाग ने आदेश जारी कर त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर नेताजी के खाने और खर्चा को शिकंजे में ले लिया है। तय सीमा से ज्यादा खर्च किया तो और कम दिखाया तो परेशानी की सामने आयेंगी। निर्वाचन विभाग ने जो लिस्ट जारी की है उसके अनुसार कुर्सी से लेकर चादर, गद्दा, भगोना से लेकर चम्मच, गाड़ी से,दरी, पर्दे, प्लास्टिक कुर्सी सहित हर सामान का किराया तय किया है। वहीं भोजन और चाय के भी रेट कर दिये हैं।

पंचायत चुनाव में चाहे प्रत्याशी दावेदारों को एक घूंट चाय पिलायें। वह उससे चीन और दूध, चाय पत्ती का तो खर्चा बचा लेंगे लेकिन आयोग सीधे हर गिलास के हिसाब से लगाएगा। चाहे एक घूंट चाय देना या फिर भरकर गिलास, कप चाय देना। इसलिये चाय की संख्या कम रखेंगे तभी ख़र्चे से बच पायेंगे। उसी के हिसाब से खिलायेंगे और पिलायेंगे लेकिन एक बात है अब नेताजी थाली से कुछ कम नहीं कर पायेंगे, क्योंकि कम भी कर लेंगे तो रुपये पूरे लगेंगे। नेताजी भोजन कराते हैं तो उस थाली का रेट 35 रुपये लगाया जाएगा। जिसमें छह पूड़ी, एक सूखी सब्जी, हरी मिर्च, अचार, नीबू, साथ में एक बूंदी का लड्डू भी खिलाया जाएगा।

यह भी पढ़ें: Mukhtar की ‘मुख्‍तारी’, नहीं चलेगी अबकी बारी

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है