मोटर व्हीकल एक्ट में हुए बदलाव, गुजरात और उत्तराखंड ने किया ट्रैफिक जुर्माने के दरों को 50 से 75 परसेंट तक कम

2 सितम्बर 2019 को सरकार ने मोटर व्हीकल एक्ट में कुछ बदलाव किए थे। उसमे ट्रैफिक नियमों का पालन न करने पर जुर्माना बढ़ाना शामिल था। भारत की सड़कों पर अचानक से ही हलचल बढ़ती दिखाई दी, ट्रैफिक चालान के कई अनोखे किस्से हमे रोज़, पढ़ने को और सुनने को मिलने लगे। जुर्माना 10 गुना बढ़ने पर इसके विरोध में कई लोग खड़े हुए। इस विरोध की वजह ये भी थी कि किसी वाहन चालक की तो इतनी आमदनी भी नहीं थी, जितना उनको चालान भरना पड़ा। एक बाइक सवार ने तो चालान कटने पर अपनी बाइक में ही आग लगा दी।

Image result for traffic police uttrakhand

ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर नितिन गडकरी ने कहा कि हमने इस रूल को इसलिए लागू किया था ताकि लोग डरे और ट्रैफिक नियमों का पालन करे। ये किसी भी तरह की पैसे कमाने की स्कीम नहीं है। क्या आपको इस बात की चिंता नहीं है कि देश में सालाना 1.5 लाख लोग रोड एक्सीडेंट में मारे जाते हैं और ज़्यादा तक उनकी उम्र 18 से 35 साल तक के बीच की होती है?

चालान का खौफ, माता-पिता ने किया बेटे को घर में कैद…

Image result for nitin gadkari

आपको बता दें कि कल गुजरात सरकार ने ट्रैफिक जुर्माने की रकम को कम कर दिया है, इससे गुजरात के लोगों को काफी राहत मिली है। गुजरात के साथ आज उत्तराखंड ने भी ये कदम उठाया है। उत्तराखंड में मोटर व्हीकल एक्ट की कुछ धाराओं में जुर्माने की रकम 50 से 75 परसेंट तक कम कर दी गई है। प्रदेश मंत्रिमंडल की बैठक में परिवहन विभाग द्वारा तैयार की गयी ट्रैफिक जुर्माने के दरों को कम करने के प्रस्ताव को हरी झंडी दिखा दी गई है।

Image result for trivendra singh rawat in meeting

इस नए प्रस्ताव के हिसाब से अब जुर्माने की राशि कुछ इस प्रकार है:-

  • हेल्टमेट का न होना – 1000 रुपये एवं तीन माह तक लाइसेंस ससपेंड।
  • सील्ट बेल्ट न लगान – 1000 रुपये।
  • ऐसे अपराध जिनमें कोई प्रावधान नहीं- पहली बार 500 रुपये दूसरी बार 1500 रुपये।
  • स्टेज कैरेज वाहनों में बिना वैध पास या बिना टिकट यात्रा – 500 रुपये।
  • स्टेज कैरेज के कंडक्टर द्वारा कर्तव्य का पालन न करना – 500 रुपये।
  • तीन पहिया वाहन द्वारा यात्री को ले जाने से मना करना – 500 रुपये।
  • खतरनाक ढंग से वाहन चालने पर- पहली बार 1000 और दूसरी बार 2000 रुपये।
  • सार्वजनिक स्थान पर अनावश्यक हार्न का उपयोग या वाहन के साइलेंसर में बदलाव पर- पहली बार 1000 रुपये, बार-बार 2000 रुपये।
  • बिना आरसी वाहन चालने पर- पहली बार 5000 रुपये और दूसरी बार 10,000 रुपये।
  • शारीरिक या मानसिक रूप से अस्वस्थ व्यक्ति द्वारा वाहन चलाने पर – पहली बार 1000 रुपये, दूसरी बार 2000 रुपये।

नज़र हटी जेब कटी! चार दिनों में ट्रैफिक पुलिस ने जमा की इतनी रकम!