जानें सितंबर महीने की 14 तारीख़ को ही क्यों मनाया जाता है Hindi Diwas

0
96

आज देश भर में Hindi Diwas मनाया जा रहा है। हर साल 14 सितंबर को Hindi Diwas मनाया जाता है। इस दिन Hindi भाषा की महत्‍वता और उसकी नितांत आवश्‍यकता को याद दिलाया जाता है।

सन 1949 में 14 सितंबर के दिन ही Hindi को राजभाषा का दर्जा मिला था, जिसके बाद से अब तक हर साल यह दिन ‘Hindi Diwas’ के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन को महत्‍व के साथ याद करना इसलिए जरूरी है, क्‍योंकि अंग्रेजों से आज़ाद होने के बाद यह देशवासियों की स्‍वाधीनता की एक निशानी भी है। बता दें कि साल 1947 में जब भारत आजाद हुआ तो देश के सामने राजभाषा को लेकर एक सवाल खड़ा हो गया है। क्योंकि भारत विविधताओं का देश है, यहां सैकड़ों भाषा और बोलियां बोली जाती है। राष्ट्रभाषा के रूप में किस भाषा को चुना जाए ये बड़ा प्रश्‍न था। काफी विचार के बाद हिंदी और अंग्रेजी को नए राष्ट्र की भाषा चुना गया।

14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से निर्णय लिया कि हिंदी भारत की राजभाषा होगी। प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने इस दिन के महत्व देखते हुए हर साल 14 सितंबर को Hindi Diwas मनाए जाने का ऐलान किया था। पहला Hindi Diwas 14 सितंबर 1953 को मनाया गया था। Hindi को राजभाषा बनाए जाने पर देश के हिस्सों में विरोध शुरू हो गया है। तमिलनाडु सहित दक्षिणी भारत के राज्यों में Hindi की प्रतियां भी जलाई जानें लगी और दंगे भड़क गए।

आपको पता नहीं होगा लेकिन Hindi दुनिया में बोली जाने वाली भाषाओं में तीसरे नंबर पर है। दुनिया में 55 करोड़ लोग इस भाषा को समझते हैं, जबकि भारत में 45 करोड़ नागरिकों की बातचीत का जरिया Hindi भाषा है।

Hindi हमारी अपनी भाषा है जिसका एक हज़ार साल पुराना इतिहास है। हमारा कार्यालय इस दिन को किसी उत्सव से कम नहीं मानता। भले ही हमारे कामकाज की भाषा अंग्रेजी हो लेकिन हमारी मात्र भाषा को हम बेहद सम्मान देते हैं।

यह भी पढ़ें: Afghanistan में सिलेबस से अब इस्लामी कानूनों के खिलाफ हर विषय को हटा दिया जाएगा

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है