नीति आयोग के सदस्य Dr. VK Paul के अनुसार अध्ययनों से इस बात का पता चला है कि Vaccination के बाद लोगों को हॉस्पिटल में भर्ती करने, Oxygen Therapy देने व आईसीयू में रखने की आशंका कम होती है। हाई रिस्क ग्रूप में शामिल Healthcare Workers में टीका अभियान के शुरुआती डाटा का अध्ययन करने से पता चला है। वेल्लोर स्थित Christian Medical College में इसको लेकर कई तरह के शोध किए गए। अध्ययन में वैक्सीन लगवा चुके 8 हजार 9 सौ 91 हेल्थकेयर वर्कर्स को शामिल किया गया। इसमें वो हेल्थकेयर वर्कर्स भी शामिल थे जिन्हें अब तक Vaccine की केवल एक डोज ही लगी थी। मिले डाटा के अनुसार Dr. VK Paul ने बताया कि वैक्सीन लगवाने के बाद ICU में भर्ती होने की संभावना 94 % तक कम हो जाती है।

Dr. VK Paul ने बताया, देश में हुए शोध से इस बात का पता चला है कि कोविड-19 वैक्सीन के बाद लोग इस कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ ज्यादा सुरक्षित हो जाते हैं। हाई रिस्क ग्रुप में शामिल Healthcare Workers पर ये दो अध्ययन हुए हैं। इन अध्ययनों के अनुसार कोविड-19 वैक्सीन लगवाने के बाद हॉस्पिटल में भर्ती होने की संभावना 75 से 80 फीसदी तक कम हो जाती है। NITI Aayog के सदस्य डॉ. वीके पॉल के मुताबिक, कोरोना वैक्सीन लगवा चुके लोगों में से केवल 8 फीसदी में ही Oxygen Therapy देने की जरुरत होती है। डाटा के अनुसार Vaccination के बाद केवल 6 फीसदी लोगों को ही ICU में भर्ती करने की जरुरत पड़ सकती है। कोरोना वैक्सीन लगवा चुके 94 फीसदी लोगों में आईसीयू में भर्ती होने की संभावना खत्म हो जाती है।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है