साइबराबाद पुलिस के खिलाफ एक शिकायत भी दर्ज की गई है जिसमें कहा गया है कि हैदराबाद एनकाउंटर साजिश के तहत किया गया था।

हैदराबाद रेप-मर्डर केस के आरोपियों को पुलिस एनकाउंटर में ढेर कर दिया गया। इस एनकाउंटर के बाद कई तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं। कुछ लोगों ने पुलिस के द्वारा उठाए गए इस कदम की सराहना की है। तो वहीं कुछ लोगों ने इस पर कई सवाल खड़े किये हैं।

लोकसभा में पास हुआ नागरिकता संशोधन बिल, 82 के मुकाबले 293 वोटों से प्रस्ताव…

हैदराबाद एनकाउंटर को लेकर तेलंगाना सरकार का बड़ा ऐलान

बता दें कि मशहूर क्रिकेटर रह चुके और बीजेपी सांसद गौतम गंभीर, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और बाबा रामदेव जैसी हस्तियों ने इस कदम का समर्थन किया है। तो वहीं दूसरी तरफ सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडेय काटजू ,कांग्रेस सांसद शशि थरूर, और एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने पुलिसकर्मियों और देश के कानूनों पर सवाल खड़े किये है। इसी बीच खबरे आ रही हैं कि तेलंगाना सरकार ने हैदराबाद एनकांउटर पर जांच करने का फैसला किया है। इस जांच के लिए एसआईटी टीम का गठन भी किया गया है। इस टीम की बागडोर राचकोंडा के पुलिस आयुक्त महेश एम भागवत संभालेंगे। मिली जानकारी के अनुसार साइबराबाद पुलिस के खिलाफ एक शिकायत भी दर्ज की गई है जिसमें कहा गया है कि हैदराबाद एनकाउंटर साजिश के तहत किया गया था। इन सब चीजों के बाद तेलंगाना सरकार ने ये फैसला लिया है।

अपने पुराने मित्र से मिले पीएम मोदी, बताए ये बड़ी बात

बता दें कि महिला डॉक्टर के साथ जघन्य अपराध करने वाले चारों आरोपियों को पुलिस ने एनकाउंटर में ढेर कर दिया था। इसके बाद से ही एनकाउंटर पर लगातार सवाल खड़े किये जा रहे थे। ये एनकांउटर उस दौरान हुआ जब शुक्रवार सुबह हैदराबाद के एनएच 44 पर पुलिस क्राइम सीन रिक्रिएट करने के लिए आरोपियों को घटनास्थल पर लेकर गई थी। पुलिस के मुताबिक आरोपियों ने पुलिसकर्मियों से हथियार छीन लिए और उनपर फायरिंग करना शुरू कर दिया। जिसके बाद पुलिस ने उन्हें हथियार छोड़ आत्मसमर्पण करने के लिए कहा, लेकिन आरोपी नहीं माने। इसके बाद पुलिस को उनपर गोली चलानी पड़ी। जिसमें चारों आरोपी मारे गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here