Coronavirus के ख़तरे के बीच महंगाई ने भी लोगों की कमर तोड़ दी है। दिल्ली Congress कार्यकर्ता पेट्रोल और डीजल की अनियंत्रित बढ़ती कीमतों को वापस लेने की मांग और मंहगाई के खिलाफ आज पेट्रोल पंपों पर सांकेतिक विरोध प्रदर्शन करेंगे। Delhi Congress के अनुसार, कोरोना काल में आपदा को अवसर बनाकर केंद्र की मोदी सरकार और Delhi की केजरीवाल सरकार लगातार बढ़ते पेट्रोल-डीजल के दामों पर नियंत्रण करने की बजाय भारी भरकम टैक्स वसूलकर लोगों की जेब पर डाका डाल रही है। पार्टी सूत्रों ने बताया कि Congress संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, महासचिव हरीश रावत, प्रवक्ता पवन खेड़ा समेत कई नेता दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में पेट्रोल पंपों के निकट सांकेतिक विरोध प्रदर्शन में शामिल होंगे।

Delhi प्रदेश Congress ने दिल्ली सरकार को इस मसले पर आड़े हाथों लेते हुए कहा कि, केजरीवाल सरकार ने 6 सालों में पेट्रोल डीजल पर 25000 करोड़ रुपये के टैक्स के रुप में वसूले हैं और मोदी सरकार ने 7 सालों में 20.56 लाख करोड़ रुपये टैक्स के रुप में वसूले है।” Delhi Congress प्रमुख ने शीला दीक्षित सरकार को याद करते हुए कहा कि 2013 में दिल्ली में पेट्रोल पर 20 फीसदी और डीजल पर 12.5 फीसदी वैट टैक्स वसूला जाता था जिसे केजरीवाल सरकार ने बीजेपी के साथ मिलकर 2015 में पेट्रोल पर वैट 30 फीसदी और डीजल पर 16।75 फीसदी कर दिया।

Congress का कहना है कि इस विरोध प्रदर्शन में Coronavirus संबंधित सभी दिशानिर्देशों का पालन किया जाएगा। वेणुगोपाल ने कहा, ‘बीजेपी सरकार ने पिछले सात साल में पेट्रोल डीजल पर टैक्स में बार-बार भारी बढ़ोतरी करके कीमतों को रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा दिया है। इस सरकार की गलत नीतियों के कारण देश के कई हिस्सों में पेट्रोल की कीमतें आज 100 रुपये प्रति लीटर का आंकड़ा पार कर चुकी हैं और डीजल की कीमतें 100 रुपये प्रति लीटर होने के कगार पर है।’

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है