पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) और केंद्र सरकार के बीच तकरार विधानसभा चुनाव के नतीजे सामने आने के बाद भी खत्म होती नजर नहीं आ रही है। कोरोनाकाल में लगातार ममता बनर्जी मोदी सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठा रही हैं और शुरु से ही केंद्र सरकार पर पश्चिम बंगाल के साथ भेदभाव करने का आरोप लगा रही हैं। ममता बनर्जी का कहना है कि प्रधानमंत्री के साथ हो रही बैठकों में उन्हें बोलने नहीं दिया जाता है इसके अलावा ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर पश्चिम बंगाल को वैक्सीन ना देने का आरोप भी लगाया है। ममता बनर्जी का कहना है कि राज्य को केंद्र से वैक्सीन नहीं मिल रही है जिसकी वजह से टीकाकरण (Corona Vaccination)  प्रभावित हो रहा है वहीं दूसरी ओर केंद्र की मानें तो किसी भी राज्य के साथ भेदभाव नहीं किया जा रहा है और उपलब्धता के आधार पर एक ही औसत से वैक्सीन राज्यों को उपलब्ध कराई जा रही है

Mamta Banerjee भले ही अन्य राज्यों की तुलना में पश्चिम बंगाल को कम वैक्सीन दिए जाने की बात कह रही हों लेकिन आंकड़े ममता बनर्जी के बयान से मेल नहीं खा रहे। आंकड़ों पर नजर डालें तो पश्चिम बंगाल में वैक्सीनेशन की रफ्तार अन्य राज्यों के जैसी ही है केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक पश्चिम बंगाल में अब तक 1 करोड़ 32 लाख 68 हजार 386 डोज वैक्सीन लगाई जा चुकी है। 94 लाख 42 हजार 692 लोगों को पहली जबकि 38 लाख 25 हजार 694 लोगों को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है वहीं यूपी में अब तक 1 करोड़ 64 लाख 99 हजार 73 लोगों को और महाराष्ट्र में 2 करोड़ 9 लाख 69 हजार 124 लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

यह भी पढ़ें: जानें, किस आयु के लोगों को अब Vaccine के लिए पहले से Online अपॉइंटमेंट लेने की नहीं होगी ज़रुरत

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है