महंगाई की मार से आम हो या पैसे वाला आदमी सभी परेशान हैं। Oil के दाम भी आसमान छू रहे हैं इस बीच आयात शुल्क में कमी की अफवाह झूठी साबित होने के बाद विदेशी बाजारों में Edible oils के भाव औंधे मुंह गिर गए। इस गिरावट का असर Domestic oil तिलहनों पर भी हुआ और सोयाबीन, सरसों तेल, तिल, बिनौला तथा पाम एवं पामोलीन Oil कीमतों में गिरावट दर्ज हुई। बाजार सूत्रों ने कहा कि Edible oils पर आयात शुल्क कम होने की अफवाह आखिर झूठी साबित हुई जिससे विदेशों में भाव औंधे मुंह गिर गए। इस गिरावट के आम रुख के अनुरूप देशी तेल-तिलहन कीमतों में भी अच्छी खासी गिरावट आई।

विदेशी बाजारों में कल रात मलेशिया एक्सचेंज में तीन प्रतिशत और शिकागो एक्सचेंज में 2 प्रतिशत की गिरावट आई। सूत्रों मुताबिक आठ जून से सरसों तेल की मिलावट पर रोक लगाने के फैसले के बाद सोयाबीन डीगम और पामोलीन की मांग कमजोर हुई है। इसकी वजह से इन आयातित Oil के भाव भी काफी नरम पड़े हैं। उन्होंने कहा कि Edible oils में मिलावट पर रोक घरेलू उपभोक्ताओं और उत्पादक दोनों के लिए फायदेमंद होगी। एक तरफ जहां बिना मिलावट तेल उपलब्ध होगा, वहीं देश में इसका उत्पादन बढ़ेगा।

यह भी पढ़ें: Oxygen की कमी से हुई है मृत्यु तो Delhi सरकार देगी आपको लाखों रूपए

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है