इस साल का पहला Surya Grahan आज (10 जून) लगेगा। यह वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा। सूर्य ग्रहण एक खगोलीय घटना है। जब सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी एक सीधी रेखा में आ जाते हैं तब यह घटना घटित होती है।

जानें क्या है वलयाकार Surya Grahan

जब चंद्रमा, पृथ्वी से काफी दूर होते हुए पृथ्वी और सूर्य के बीच में आ जाता है और सूर्य के मध्य का पूरा भाग चंद्रमा की छाया से ढक जाता है तब सूर्य ग्रहण लगता है। इस दौरान सूर्य का बाहरी भाग प्रकाशित रहता है। इस स्थिति में चंद्रमा सू्र्य के लगभग 97% भाग को ढक लेता है। जिसके कारण धरती से सूर्य देखने में आग की अंगूठी (रिंग ऑफ फायर) की तरह चमकता दिखाई देता है। इस घटना को वलयाकार Surya Grahan कहते हैं।

हिंदू पंचांग के अनुसार, ज्येष्ठ महीने की अमावस्या को वृषभ राशि और मृगशिरा नक्षत्र में Surya Grahan लगेगा। इस दिन वट सावित्री व्रत और सूर्य जयंती भी है।

इस Surya Grahan को भारत के केवल कुछ हिस्सों में देखा जा सकेगा। इन हिस्सों में यह सूर्य ग्रहण सूर्यास्त से पहले देखा जा सकेगा। एमपी बिरला तारामंडल के निदेशक देबीप्रसाद दुरई के अनुसार, साल का पहला Surya Grahan अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख में देखा जा सकेगा। अरुणाचल प्रदेश में दिबांग वन्यजीव अभयारण्य के पास से शाम करीब 5 बजकर 52 मिनट पर देखा जा सकेगा। वहीं लद्दाख के उत्तरी हिस्से में सूर्य ग्रहण शाम 06 बजे देखा जा सकेगा। यहां सूर्यास्त शाम को करीब 06 बजकर 15 मिनट पर होगा।

भारत में किस वक़्त होगा Surya Grahan

भारत में Surya Grahan सुबह 11 बजकर 42 मिनट पर आंशिक होगा। यह दोपहर 3 बजकर 30 मिनट पर वलयाकर रूप में होगा। इसके बाद शाम को करीब 04 बजकर 52 मिनट पर आग की अंगूठी (रिंग ऑफ फायर) समान दिखाई देगा। यह सूर्य ग्रहण भारतीय समयानुसार, शाम करीब 06 बजकर 41 मिनट पर समाप्त होगा।

यह भी पढ़ें:  10 June – जानें किस राशि के जातकों के आज भाग्य के भरोसे बनेंगे कई काम

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है