DGGI की जांच में E-commerce कंपनी द्वारा की गई गणना में पाई गई हैं त्रुटियां

ऑनलाइन साइट्स आपको जितना फ़ायदा पहुंचाती है उतना ही नुकसान भी पहुंचाती हैं। बिज़ी रहने की वजह से हर इंसान Amazon जैसी साइट्स का इस्तेमाल करता है। वस्तु एवं सेवा कर खुफिया विभाग के महानिदेशक (DGGI) ने ITC (Input tax credit) के कथित गलत दावे को लेकर E-commerce प्रमुख Amazon India को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। सूत्रों ने कहा कि GST Intelligence Branch ने 175 करोड़ रुपये की मांग की है।

उत्तराखंड के पोखरी में 4G इंटरनेट सेवा की शुरूआत

DGGI की एक जांच में E-commerce कंपनी द्वारा की गई गणना में त्रुटियां पाई गई हैं। इस संबंध में बताया जा रहा है कि Amazon ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) का भुगतान किया, जिसके लिए उसे रिफंड का दावा करना चाहिए था। इसके बजाय इसने उच्च कर स्लैब के बहाने ITC का गलत दावा किया। बता दें कि E-commerce के नोटिस में गलत तरीके से दावा किए गए ITC के कारण अब ब्याज की मांग की गई है। हालांकि अभी Amazon ने कंपनी को भेजे गए ई-मेल का जवाब नहीं दिया है।

अब DGGI द्वारा कैब सर्विस मुहैया कराने वाली उबर और ओला के खिलाफ GST की चोरी को लेकर जांच शुरू करने के एक दिन बाद यह कदम सामने आया है। DGGI ने करोड़ों रुपये की GST चोरी के मामले में कंपनियों के अधिकारियों को तलब किया है।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं