Shivsena ने सोमवार को कहा कि पश्चिम बंगाल चुनाव परिणाम (West Bengal Election Results) ने साबित कर दिया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Pm Modi) और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह अजेय नहीं हैं. शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में प्रकाशित संपादकीय में कहा गया कि जिन राज्यों और केंद्रशासित प्रदेश (Puducherry) में हाल में चुनाव हुए, उनमें से सभी की निगाहें पश्चिम बंगाल पर थीं.

पार्टी ने कहा, ‘कोविड-19 वैश्विक महामारी से निपटने के बजाए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत पूरी केंद्र सरकार ममता बनर्जी को हराने के लिए पश्चिम बंगाल में चुनाव (West Bengal Election Results) प्रचार में लगी थी.’ बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में लगातार तीसरी बार तृणमूल कांग्रेस को रविवार को जीत दिलाई. मराठी समाचार पत्र ने कहा, ‘परिणाम से साबित होता है कि पूरा तंत्र और सभी प्रौद्योगिकियां पास होने के बावजूद मोदी-शाह अजेय नहीं हैं.’ शिवसेना ने पश्चिम बंगाल चुनाव नहीं लड़ा था, लेकिन ममता बनर्जी को समर्थन दिया था. उसने आरोप लगाया कि भाजपा ने बनर्जी को हराने के लिए धन, शक्ति और सरकारी तंत्र का इस्तेमाल किया. उन्होंने कहा, ‘पश्चिम बंगाल चुनाव परिणाम का एक पंक्ति में विश्लेषण यह है कि BJP हार गई और कोरोना वायरस (corona) जीत गया.

Shivsena ने कहा कि पश्चिम बंगाल में जीत हासिल करने के एकमात्र लक्ष्य के साथ मोदी और शाह चुनाव प्रचार में उतरे तथा उन्होंने कोविड-19 संबंधी सुरक्षा नियमों का उल्लंघन करते हुए बड़ी रैलियां एवं रोडशो किए. उन्होंने कहा कि मद्रास हाईकोर्ट ने कोविड-19 की ताजा लहर के लिए निर्वाचन आयोग को दोषी ठहराया है. Shivsena ने सवाल किया कि चुनाव में भाजपा के प्रदर्शन की जिम्मेदारी कौन लेगा. उसने कहा कि असम और Puducherry को छोड़कर BJP ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया. संपादकीय में कहा गया है, ‘West Bengal के लोगों की प्रशंसा की जानी चाहिए कि वे कृत्रिम लहर के झांसे में नहीं आए और अपनी प्रतिष्ठा के लिए एकजुट होकर खड़े रहे. देश को बंगाल से सीखना चाहिए.’

यह भी पढ़ें: 20 मई तक ऑक्सीजन आपूर्ति में होगा आत्मनिर्भर?

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है