हेमंत सोरेन को मुख्यमंत्री बनने के लिए चारों तरफ से बधाइयां मिल रही हैं। कांग्रेस के नेता हो या जदयू के नेता हो सभी उन्हें बधाइयां देने में लगे हुए हैं।

कुछ दिनों पहले ही झारखंड राज्य के चुनाव संपन्न हुए हैं। जेएमएम, कांग्रेस और जदयू के संगठन ने झारखंड में अपनी सरकार बना ली है। झारखंड में भारतीय जनता पार्टी वैसा कमाल नहीं दिखा पाई। जैसा वह लगातार दो बार लोकसभा चुनाव में दिखा चुकी हैं। भाजपा को यह पूरी उम्मीद थी कि वह इस बार झारखंड में पूर्ण बहुमत से अपनी सरकार बना लेगी। लेकिन जेएमएम के शानदार प्रदर्शन के आगे भारतीय जनता पार्टी ज्यादा कमाल नहीं कर पाई। आखिरकार रविवार को झारखंड राज्य को अपना मुख्यमंत्री मिल ही गया।

प्रियंका गांधी को अपनी स्कूटी पर बैठाने वाले नेता का कटा चालान


जानकारी के लिए बता दें कि हेमंत सोरेन ने झारखंड के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। तो वहीं कांग्रेस और जदयू के नेताओं ने मंत्री पद के लिए शपथ ली। हेमंत सोरेन को मुख्यमंत्री बनने के लिए चारों तरफ से बधाइयां मिल रही हैं। कांग्रेस के नेता हो या जदयू के नेता हो सभी उन्हें बधाइयां देने में लगे हुए हैं। बेटे को मुख्यमंत्री बनता हुआ देखकर हेमंत सोरेन के पिता शिबू सोरेन ने भी बड़ा बयान दिया है।

जानिए कौन हैं अर्चना सिंह, जिसने भाई कि मौत के बाद भी ड्यूटी निभाई….


एक चैनल से बातचीत के दौरान शिबू सोरेन ने कहा कि हेमंत सोरेन को सबसे पहले शिक्षा की ओर ध्यान देना चाहिएक्योंकि झारखंड में अशिक्षा बहुत है। वहीं उन्होंने आगे अपने बयान में कहा कि हेमंत को किसी भी सलाह की जरूरत नहीं है। वे पूरी तरह सक्षम भी है और समझदार भी है। बता दे कि शिबू सोरेन झारखंड में आदिवासी नेता के रूप में जाने जाते हैं।