Antilia केस में जांच के दौरान रोजाना नए-नए खुलासे हो रही है. अब इस बात का खुल्लासा हुआ है कि सचिन वझे (Sachin) ने अंडरवर्ल्ड डॉन Dawood Ibrahim के पुराने साथियों की मदद ली थी. बताया जा रहा है कि ऐसा उन्होंने खुद की पोल खुलते हुए देख एजेंसियों को गुमराह करने के लिए किया है. यहा ये सवाल इसलिए उठा है क्योंकि तिहाड़ जेल (Tihar Jail) से जैश-उल-हिंद (Jaish-ul-Hind) के नाम से एक Telegram message आया, जिसमें विस्फोटक लगाने की जिम्मेदारी का दावा किया गया था, उसके तार Underworld से जुड़ते नजर आ रहे हैं. जांच में पता चला है कि जेजे शूट आउट से जुड़े एक बड़े गैंगस्टर (Gangster ) ने उसमें मदद की है.

EC की रिपोर्ट में नंदीग्राम झड़प का जिक्र नहीं

25 फरवरी को स्कॉर्पियो मिलने के बाद जब ATS ने भी जांच शुरु की और वझे की पोल खुलती नजर आयी तभी Jaish-ul-Hind के नाम से एक टेलीग्राम संदेश आया था, जिसमें  विस्फोटक लगाने की जिम्मेदारी ली थी. उस मैसेज में क्रिप्टो करंसी से पैसे की मांग भी की गई थी.  लेकिन बाद में टेलीग्राम से ही Jaish-ul-Hind के नाम से एक और संदेश आया, जिसमें पहले वाला गलत बताया गया. वही बाद में मुंबई पुलिस (Mumbai Police) ने दावा किया कि एक प्राइवेट एजेंसी (Private agency) की जांच में पता चला है कि धमकी भरा संदेश जिस आईपी (IP) से जनरेट हुआ है उसकी Location तिहाड़ जेल है. बताते हैं कि खुद Mumbai Police आयुक्त ने Delhi Police को पत्र (Letter) देकर सूचित किया. जिसके बाद Delhi के स्पेशल सेल नेTihar Jail जेल में छापा मारकर Indian Mujahideen के आतंकी (Terrorist) तहसीन अख्तर (Tehsin Akhtar) के पास से मोबाइल फोन (Mobile Phone) बरामद किया. इंडियन मुजाहिदीन (Indian Mujahideen) का नाम आते ही शक पुख्ता होता दिखा.

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है