चंडीगढ़ शहर में रावण की एक बहुत बड़ी मूर्ति बनाई गई है। उस  मूर्ति की ऊंचाई 221 फुट तक है।

8 अक्टूबर से देश में दशहरा उत्सव की शुरुआत हो जाएगी। दशहरे को भारत ही नहीं बल्कि हर उस देश में धूमधाम से मनाया जाता है जहां पर हिंदू आबादी रहती है। इस त्यौहार को बुराई की अच्छाई पर जीत की तर्ज पर मनाया जाता है। इस दिन हर क्षेत्र में अवकाश रहता है। भारत के हर बड़े शहरों में रावण की बड़ी-बड़ी मूर्तियां बनाई जाती हैं। लेकिन कुछ शहरों में रावण की मूर्ति को इतना बड़ा बना देते हैं कि वह रिकॉर्ड बन जाता है।

जानकारी के लिए बता दें कि चंडीगढ़ शहर में भी रावण की एक बहुत बड़ी मूर्ति बनाई गई है। चंडीगढ़ में रावण की मूर्ति की ऊंचाई 221 फुट तक है। यहां तक कि इसे सीधा खड़ा करने के लिए क्रेन और जेसीबी की मदद लेनी पड़ी। जानकारी मिली है कि इस रावण को तजिंदर सिंह ने तैयार किया है, उन्होंने बताया कि इसको बनाने के लिए 3 हजार मीटर कपड़ा लगा है।

इस रावण को वाटरप्रूफ बनाया गया है ताकि दशहरे वाले दिन अगर बारिश आ जाए तब भी यह खराब ना हो सकें। इसको बनाने में तजिंदर सिंह को पुरे 6 महीने का समय लगा है, और 40 लोगों ने इसको बनाने में इनकी मदद की है। इस पूतले को बनाने में आए खर्चे की बात करें तो इस इसको बनाने में लगभग 30 लाख का  खर्चा आया है। बता दें कि  1987 से तजिंदर सिंह हर साल रावण का पूतला बनाते आ रहे हैं।