Baba Ramdev की मुश्किलें कम होती नज़र नहीं आ रही हैं। डॉक्टरों और ऐलोपैथी पर अपने विवादित बयानों को लेकर घिरे योग गुरु Swami Ramdev के खिलाफ पश्चिम बंगाल में केस दर्ज कराया गया है। सीधी पुलिस स्टेशन में Ramdev के खिलाफ IMA की बंगाल शाखा ने यह FIR करवाई है। FIR में कहा गया है कि Baba Ramdev आधुनिक चिकित्सा और Corona के इलाज को हतोत्साहित कर रहे हैं। इंडियन मेडिकल असोसिएशन (IMA) के पूर्व अध्यक्ष और टीएमसी के सांसद शांतनु सेन ने कहा कि जल्द ही दूसरे राज्यों की असोसिएशंस भी योग गुरु पर केस दर्ज कराएंगी।

IMA इससे पहले उत्तराखंड ने रामदेव को 1000 करोड़ रुपये का मानहानि नोटिस भेजा है। नोटिस में Ramdev से अगले 15 दिन में उनके बयान का खंडन वीडियो और लिखित माफी मांगने को कहा गया है। नोटिस में कहा गया है कि अगर रामदेव अगर 15 दिन के अंदर खंडन वीडियो और लिखित माफी नहीं मांगते हैं तो उनसे 1000 करोड़ रुपये की मांग की जाएगी। बता दें कि 1,000 करोड़ के मानहानि के नोटिस के बाद IMA ने दिल्ली में Ramdev के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। IMA की तरफ से महासचिव डॉ. जयेश लेले ने यह शिकायत दर्ज कराई है। दिल्ली के आईपी स्टेट पुलिस स्टेशन में दी गई शिकायत में IMA की तरफ से कहा गया है कि स्वामी रामदेव लोगों के मन में Vaccine को लेकर शंका पैदा कर रहे हैं, सरकारी कर्मचारियों के काम में बाधा डाल रहे हैं।

पिछले दिनों Ramdev नें बयान दिया था कि एलोपैथिक दवाएं खाने से लाखों लोगों की मौत हुई है। उन्होंने एलोपैथी को स्टुपिड और दिवालिया साइंस कह दिया था। इस पर विवाद बढ़ने और केंद्रीय मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन के कड़े ऐतराज के Ramdev ने अपना बयान वापस ले लिया था। माना जा रहा था कि विवाद थम जाएगा लेकिन 24 मई को Ramdev ने एक बार फिर एलोपैथिक चिकित्सा पद्धति पर सवाल उठा दिए। इस बार उन्होंने पतंजलि के लेटरपैड पर लिखी एक चिट्ठी में IMA से 25 सवाल किए। इस पर उनके हस्ताक्षर भी है।

यह भी पढ़ें: Oxygen की कमी से हुई है मृत्यु तो Delhi सरकार देगी आपको लाखों रूपए

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है