Coronavirus ने सिर्फ इंसानों को ही नहीं बल्कि Indian Railways को भी नुकसान पहुंचाया है। Railway को Covid19 महामारी की वजह से चालू Financial Year में यात्री भाड़े के मद में 38,017 करोड़ रुपये के राजस्व का घाटा हुआ लेकिन सदभावना के तहत Labor special trains के चलाने से घाटे की कुछ क्षति पूर्ति हुई। वहीं माल ढुलाई के तरीकों को अपनाने से Railway का इस मद में राजस्व Last Year के मुकाबले बढ़ा है।

America: जानें, भारतीय मूल के डॉक्टर को ही क्यों मिला Corona को थामने का ज़िम्मा

Railway ने नियमित यात्री रेलगाड़ियों का परिचालन अबतक नहीं शुरू किया है लेकिन अब उसका ध्यान माल ढुलाई से आने वाले राजस्व को कायम रखने पर है। बता दें कि Railway माल ढुलाई से होने वाली आय में 22 मार्च तक Last Financial Year के मुकाबले 1,868 करोड़ रुपये (करीब दो प्रतिशत) की वृद्धि करने में सफल रहा। भले ही यह 2% की वृद्धि है लेकिन इससे Coronavirus के कारण लागू Lockdown की समस्या से उबरने में काफी सहायता मिली है।

Railway के यात्री मद से होने वाली आय की जहां तक बात है तो पिछले Financial Year (20019-20) में यह 53,525.57 करोड़ रुपये रही, जो चालू Financial Year (2020-21) में घटकर 15,507.68 करोड़ रह गई। यह Last Year के मुकाबले 71.03% कम है। आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल 2020 से फरवरी 2021 में यात्री भाड़े से 12,409.49 करोड़ राजस्व प्राप्त हुआ, जबकि Last Year इसी अवधि में यह राशि 48,809.40 करोड़ रुपये थी।

Passenger की आवाजाही के बावजूद Railway ने प्रवासी मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने की शुरुआत की। एक May से 30 अगस्त के बीच Railway ने 4000 श्रमिक Special Trains का परिचालन किया और 23 राज्यों से करीब 63.15 लाख श्रमिकों को उनके गंतव्यों तक पहुंचाया।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है