Delhi में प्राइवेट School के बच्चे ले रहे हैं सरकारी School में एडमिशन, जानें वजह

0
82

अमीर घरों के बच्चे प्राइवेट School में पढ़ते हैं और कम आमदनी वाले लोग अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाते हैं। ऐसी ही धारणा बनी हुई लेकिन कहते हैं न बदलाव कब कहां देखने को मिल जाए ये कोई नहीं बता सकता है। Delhi के विभिन्न प्राइवेट स्कूलों में पढ़ने वाले लगभग 2.4 लाख छात्रों ने एकेडमिक ईयर 2021-22 के लिए Delhi सरकारी स्कूलों में एडमिशन के लिए अप्लाई किया है।

Delhi में नर्सरी से लेकर कक्षा 12 में एडमिशन के लिए आवेदन किया गया। 1.58 लाख से अधिक छात्रों का एडमिशन पूरा हो चुका है। वहीं सरकारी स्कूलों के प्रिंसिपल्स का कहना है कि इन एडमिशन में 9वीं और 11वीं कक्षा में ज्यादा एडमिशन हुए हैं और वे इस बढ़ोतरी की वजह Covid-19 में अभिभावकों को हुआ आर्थिक नुकसान बता रहे हैं। बता दें कि शिक्षा निदेशालय (DoE) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, लगभग 1030 सरकारी स्कूलों में कक्षा नर्सरी से कक्षा 12 तक के लिए 2 लाख 36 हजार 522 आवेदन प्राप्त हुए थे।

इस साल नॉन-प्लान एडमिशन के लिए प्रवेश सत्र की दो साइकिल रही हैं। Delhi सरकार ने प्राइवेट Schools के छात्रों को बिना ट्रांसफर सर्टिफिकेट के भी अपने Schools में एडमिशन लेने की अनुमति दी है। इस संबंध में कहा गया कि विभाग अपने आप संबंधित Schools से टीसी प्राप्त करेगा। इस बढ़ोतरी के साथ DoE के अनुसार, Delhi सरकार के स्कूलों में एनरोल स्टूडेंट्स की कुल संख्या 17.67 लाख तक पहुंच गई है। 2020-21 में यह आंकड़ा 16.28 लाख था, जबकि 2019-20 में यह करीब 15.05 लाख था।

अब तक 1 लाख 58 हजार 484 छात्रों को एडमिशन दिया गया है और प्रक्रिया जारी है। यह डेटा नॉन प्लान एडमिशन कहलाने वाले छात्रों के लिए है और उन छात्रों के लिए जो निजी Schools में पढ़ रहे थे। हालांकि, पिछले साल के नॉन प्लान एडमिशन पर डेटा जारी नहीं किया गया है। इस बारे में ट्वीट करते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, “भारत में ऐसा पहली बार हो रहा है।”

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है