पहले चरण में जनप्रतिनिधियों को शामिल नही किया गया।

पीएम मोदी ने घोषणा की है कि टीकाकरण के पहले चरण का खर्चा केंद्र सरकार उठाएगी। पहले चरण में 3 करोड़ लोगों, स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों को टीका लगेगा। साथ ही उन्होंने बताया कि इस चरण में जनप्रतिनिधियों को शामिल नहीं किया गया। आने वाले 16 जनवरी को पूरे देश में टीककरण का अभियान चलेगा।

3-4 हफ्तों से लगभग 50 देशों में चल रहा है कोविड-19 के लिए टीकाकरण का अभियान चलाया जा रहा है। और अब तक ढाई करोड़ लोगों को टीके लगाए जा रहा है अब जबकि भारत ने लक्ष्य बनाया है कि अगले कुछ महीनों में 30 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाएगा।पीएम मोदी ने यह भी कहा कि देश में तैयार किए गए कोरोना के दोनों टीके दुनिया के अन्य टीकों के मुकाबले फायदेमंद हैं। वैक्सीन को लेकर उठ रहे सवालों को द्खते हुए प्रधानमंत्री ने भरोसा देते हुए कहा है कि देशवासियों को ”प्रभावी वैक्सीन देने के लिए वैज्ञानिकों ने सभी सावधानियां बरती हैं। उन्होने कहा कि अब ये वैक्सीन देश को कोरोना से राहत मिलेगी।

किसान आंदोलन: सुनवाई के दौरान क्यूं नाराज हुए CJI

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने निर्मित ऑक्सफोर्ड के कोविड-19 टीके ‘कोविशील्ड’ और भारत बायोटेक के स्वदेश में विकसित टीके ‘कोवैक्सीन’ को देश में सीमित आपात इस्तेमाल के लिये भारत ने मंजूरी दे दी थी।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं