जल्दबाज़ी में हर इंसान जो बैंक पास में होता है उसी से पैसा निकाल लेता है लेकिन अब ऐसा करना महंगा होने जा रहा है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने गुरुवार को ATM के जरिये होने वाले हर वित्तीय लेनदेन पर इंटरचेंज फीस को 15 रुपये से बढ़ाकर 17 रुपये करने का ऐलान किया।

ATM निकासी शुल्क की गई बढ़ोतरी 1 जनवरी 2022 से लागू होगी। यानी नए साल के पहली तारीख से आपको अधिक शुल्क का भुगतान करना होगा। इसी के साथ आरबीआई ने किसी भी बैंक के ग्राहकों को हर महीने मिलने वाले मुफ्त ATM निकासी के बाद ग्राहकों पर लगने वाले शुल्क की अधिकतम सीमा 20 रुपये से बढ़ाकर 21 रुपये करने का भी ऐलान किया है। बैंक ग्राहकों को हर महीने ATM से 5 बार मुफ्त नकद निकासी की सुविधा अभी देते हैं। रिजर्व बैंक ने कहा है कि पिछली बार अगस्त 2012 में ATM इंटरचेंज फीस में बदलाव किया गया था।

केंद्रीय बैंक ने गैर-वित्तीय लेनदेन के शुल्क को 5 रुपये से बढ़ाकर 6 रुपये कर दिया है, जो 1 अगस्त 2021 से प्रभावी हो जाएगा। बता दें कि ग्राहकों पर लागू शुल्क में अगस्त 2014 में संशोधन किया गया था। ऐसे में समिति की सिफारिशों की पड़ताल के बाद इंटरचेंज फीस और कस्टमर शुल्क बढ़ाने का फैसला लिया गया है। आरबीआई ने बताया कि बैंकों व ATM ऑपरेटर्स पर पड़ने वाली ATM डिप्लॉयमेंट लागत और रखरखाव खर्च के साथ सभी हितधारकों व उपभोक्ताओं की सहूलियत को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है।

यह भी पढ़ें: SC ने केंद्र को दिया आदेश, Corona से मरने वालों के परिवार को मुआवजे की मांग का करें फैसला

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है