Coronavirus से बचने के लिए इस वक़्त सभी लोग Vaccine लगवा रहे हैं ऐसे में भारत में ऐस्ट्राजेनेका की Vaccine कोविशील्ड बनाने वाली कंपनी Serum Institute of India ने अपने टीके से जुड़ी प्रतिकूल घटनाओं के मामले में किसी भी क्षतिपूर्ति या मुआवजे के दावों से कानूनी सुरक्षा मांगी है। भारत में Corona के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने कई विदेशी Vaccine निर्माता कंपनियों के साथ करार किया है। यह खबर ऐसे समय में आई है जब इस तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं कि भारत सरकार फाइज़र और मॉडर्ना जैसी विदेशी कंपनियों को इस तरह का संरक्षण दे सकती है।

इससे पहले भारत की दवा नियामक संस्था यानी डीजीसीआई ने फाइज़र और मॉडर्ना जैसी विदेशी Vaccine को जल्द से जल्द भारत लाने के लिए इनके अलग से लोकल ट्रायल करवाने की शर्तों को हटा दिया था। नए नियमों के मुताबिक, अगर किसी टीके को बड़े देशों की दवा नियामक संस्था या फिर विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी होगी, उन्हें भारत में अलग से ट्रायल से नहीं गुजरना पड़ेगा।

अमेरिकी कंपनी फाइज़र और मॉडर्ना ने भारत सरकार से मांग की थी कि वह उनकी Covid-19 Vaccine के इस्तेमाल से जुड़े किसी भी दावे से उसे कानूनी सुरक्षा दे। खबरों के मुताबिक, भारत सरकार भी इसपर तैयार हो गई थी। अब Serum Institute ने भी अपने टीके को लेकर इसी तरह की सुरक्षा की मांग की है। ख़बरों के मुताबिक अब ये सवाल किया जा रहा है कि ‘अगर विदेशी कंपनियों को किसी क्षतिपूर्ति या मुआवजे के दावे से छूट मिल रही है तो फिर सिर्फ Serum Institute of India ही क्यों बल्कि Vaccine बनाने वाली सभी कंपनियों को इससे छूट मिलनी चाहिए।’

यह भी पढ़ें: Corona काल में महंगाई ने किया लोगों का जीना मुहाल

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है