यहां ‘तबाही’ आ चुकी है, सिस्टम ‘वेंटिलेटर’ पर है, अपना ख़्याल ख़ुद रखिए

0
197

ऐसा न कभी देखा, न कभी सुना, यक़ीन मानिए ये ‘प्रलय’ जैसे हालात है। सिस्टम में बैठे जिन लोगों पर आपकी मदद की जिम्मेदारी है, वो अब ख़ुद लाचार- बीमार पड़े हैं। घर में बिस्तर पर पड़े अपने मरीज़ के लिए अगर आप गुहार लगाइए तो, वे पूरी बेशर्मी के साथ ‘हाथ खड़े’ कर रहे हैं। यूपी का खजाना भरने वाले गौतमबुद्ध नगर में कहने को तो बड़े बड़े हाइटेक अस्पताल हैं, लेकिन कोविड 2.0 ने सबकी कमर तोड़कर रख दी है। प्रशासनिक अधिकारी या तो आपका फोन ही नहीं उठाएंगे, अगर फोन उठाने की उनकी ड्यूटी लगा ही दी गई है तो फिर वो किसी डॉक्टर का नंबर देकर अपनी ड्यूटी पूरी कर लेंगे। जब आप दिए हुए नंबर पर फोन करेंगे तो वो या तो हमेशा बिजी आएगा, या फोन पिक ही नहीं किया जाएगा। अगर उनको लगे कि आपको जवाब देना ज़रूरी है तो फिर आपको टका सा जवाब मिलेगा- मैं खुद बीमार हूं।

हैरानी की बात है कि अगर आप बीमार हैं तो फिर  प्रशासन ने आपकी ड्यूटी क्यों लगने दी।  अगर आप कुछ कर ही नहीं कर सकते तो फिर ये ‘दिखावा ‘ क्यों ?  गौतमबुद्धनगर प्रशासन ने कोविड मरीज़ों की मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर 18004192211 जारी की है। इस नंबर पर अगर आपका कॉल

पिक हो गया तो फिर आपको दो टूक जवाब मिलेगा कि किसी भी सरकारी अस्पताल में बेड नहीं है, अगर आप प्राइवेट अस्पताल में जाना चाहते हैं तो उसके लिए प्रशासन ने अलग अलग डॉक्टर्स की टीम बना रखी है। जैसे नोएडा के जेपी और यथार्थ अस्पताल के लिए डॉक्टर डॉ. चंदन सोनी। डॉ. चंदन सोनी के दिए नंबर पर जब फोन किया गया तो बहुत देर तक बिजी रहा। उसके बाद फोन लगा तो उठाया नहीं गया और फिर मैसेज भेजा तो जवाब आया, मुझे बुखार है और इस नंबर 18004192211 पर कॉल करें। यानी घूमकर फिर वहीं। ये है सिस्टम का हाल। इसके अलावा भी  प्रशासन ने जिन नोडल अधिकारियों के नंबर जारी किए लगभग सभी के नंबर्स बिजी आते रहे।

तो सवाल उठता है कि ऐसे हालात में एक आम आदमी क्या करे, किसके पास जाए ? तो क्या मान लिया जाएगा कि अब आप और हम ‘भगवान भरोसे’ हैं ? आम आदमी या तो लाचार है या फिर आक्रोशित।  याद रखिए कि गौतमबुद्ध नगर वो जिला हैं, जो यूपी का खजाना भरता है और यहां के पांच सितारा अस्पताल शहर की पहचान हैं। ऐसे में अब आप बीमार पड़ जाते हैं तो फिर कहां जाएंगे। इससे अच्छा है कि कोई भी ख़तरा मोल न लें, आपकी बीमारी गंभीर हो गई तो ‘अफोर्ड’ करना मुश्किल पड़ जाएगा।

नवीन पाण्डेय

यह भी पढ़ें: CPM महासचिव Sitaram Yechury के बेटे का Corona से हुआ निधन

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है