निश्चित ही घर से कार्य करने की शैली ने पूरी दुनिया को बदल कर रख दिया है। इस महामारी ने लोगों की ज़िंदगियों को हर तरह से बदला है, जिसमे वर्क कल्चर पूरे विश्व में काफी प्रभावित हुआ है। कोरोना जैसी महामारी ने लोगों  में काम करने के तरीके से लेकर काम करने के जगहों की परिभाषा पूरी  तरह से बदल डाली है। कई कंपनियों, विशेष रूप से प्रौद्योगिकी/सॉफ्टवेयर कंपनियों ने इस वर्क कल्चर को सबसे पहले और सटीक तरीके से पकड़ा है। इसके अलावे स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटीज़ भी इस ऑनलाइन दुनिया में अपने स्थान बनाने  में लगें हैं। वर्क कल्चर अब परिणामों पर अधिक ध्यान केंद्रित कर रही हैं और उपस्थिति पर कम ।

मोदी के बांग्लादेश दौरे के समय हिंसा फैलाने वाला शाहजहां चौधरी गिरफ्तार

अब  ऑनलाइन बैठकें आदर्श बन गई हैं । व्यक्ति अब घर के जीवन के साथ कार्य जीवन को एकीकृत करने में सक्षम हैं। महिला सशक्तिकरण पर नजर डालें तो कंपनियां अब ज्यादा महिला कर्मचारियों को हायर कर रही हैं।बहुत सारी कंपनियों ने महिला कर्मचारियों को काम पर रखना शुरू कर दिया है क्योंकि घर से काम नया ट्रेंड है और यह इसे काफी आसान बनाता है। इससे कई फायदे भी देखने को मिल रहे है।कंपनियों के साथ-साथ कर्मचारियों को अपने छिपे हुए शौक को आगे बढ़ाने का भरपूर मौका मिल है।खाना पकाने जैसे अन्य काम में उत्कृष्ट कर्मचारी, पुरुष और महिलाएं दोनों ही घर की संस्कृति से इस नए काम में अपने कौशल और शौक के लिए सही एक्सपोजर पा रहे हैं ।एक आभासी संबंध कई भावनात्मक रूप से अपने सहयोगियों के करीब आने में मदद कर रहा है ।वे दिन गए जब एम्प्लॉईज़  केवल वित्तीय भत्तों के साथ अपने कार्यबल को बनाए रख सकते थे  ।नए युग के एम्लॉईज़  कार्यस्थल की जरूरतों के साथ रहना भी जानते हैं ।यह इस तथ्य को स्वीकार करने का समय है कि कार्य-जीवन को  संतुलित रखना कितना महत्वपूर्ण है।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है