1 अक्टूबर से कई चीजों पर बदलाव देखने को मिलेगा, जिनका सीधा प्रभाव आपकी जेब पर पड़ेगा और ये सभी निमय आज से अमल में आ जाएंगे।

मोदी सरकार लगातार नए नियम लेकर सामने आ रही है। एक बार फिर सरकार अपने कुछ नए नियमो के साथ तैयार है। अक्टूबर से कई चीजों पर बदलाव देखने को मिलेगा, जिनका सीधा प्रभाव आपकी जेब पर पड़ेगा और ये सभी निमय आज से अमल में आ जाएंगे। खासकर ड्राइविंग लाइसेंस, एसबीआई एटीएम ट्रांजेक्शन, जीएसटी और क्रेडिट कार्ड के जरिए पेट्रोल-डीजल की खरीदी मे कुछ बदलाव किए गए हैं।

सरकार की कौन-सी आदत मंदी के लिए जिम्मेदार?

आइए जानते हैं कौन से नियम बदल रहे हैं, कौन-कौन से बदलाव आपके लिए फायदेमंद हैं और किस बदलाव से आपकी जेब ढीली होने वाली है।

1. SBI लागू करेगा ट्रांजेक्शन से सम्बंधित ये नया नियम

Image result for new rules in india after 1 october

एसीबीआई एक अक्टूबर से अपना नया नियम लागू करने जा रहा है। जिसका प्रभाव सीधा देशभर के लगभग 32 करोड़ ग्राहकों पर पड़ेगा। नए नियम के तहत बैंक की तरफ से निर्धारित मंथली एवरेज बैलेंस को मेंटेन नहीं करने पर जुर्माने में 80 प्रतिशत तक की कमी आ जाएंगी। यदि आप मेट्रो सिटी के खाताधारक हैं तो आपके खाते में 1 अक्टूबर से मेट्रो सिटी की ब्रांच और शहरी इलाके की ब्रांच दोनों में ही मंथली एवरेज बैलेंस घटकर तीन हजार रुपये हो जायेगा। अगर मेट्रोसिटी खाताधारक 3000 रुपए का बैलेंस मेंटेन नहीं कर पाता और उसका बैलेंस 75 प्रतिशत से कम है तो उसके जुर्माने के तौर पर 80 रुपए प्लस जीएसटी चार्ज देना होगा। इसी तरह से 50 से 75 प्रतिशत कम बैलेंस रखने वालों को 12 रुपए और जीएसटी देना होगा। 50 प्रतिशत से कम बैलेंस होने पर 10 रुपए प्लस जीएसटी देना होगा। इसके अलावा मेट्रो सिटी ग्राहकों को एक अक्टूबर से एसबीआई 10 फ्री ट्रांजेक्शन देगा जबकि अन्य शहरों के लिए 12 फ्री ट्रांजेक्शन दिए जाएंगे।

2. ड्राइविंग लाइसेंस से जुड़े बदलाव

Image result for new rules in india after 1 october

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने का नियम भी बदल जाएगा। जिसके तहत आपको अपना ड्राइविंग लाइसेंस अपडेट कराना होगा। राहत की बात यह है कि इसके लिए पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन होगी। साथ ही रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट के साथ ही ड्राइविंग लाइसेंस कानूनी रूप से भी जरूरी हो जाएगा । इस नियम के तहत ड्राइविंग लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट का रंग भी बदल जाएगा। दरअसल वर्तमान में पूरे देश में ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी का रंग अलग-अलग होता था लेकिन अब जो नया नियम लागू होगा उसके बाद दोनों के रंग एक तरह के हो जाएंगे। नए नियम के लागू होने क बाद ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी में माइक्रोचिप के अलावा क्यूआर कोड दिए जाएंगे।

डॉ हर्बर्ट क्लेबर का गूगल ने बनाया डूडल, नशे के चंगुल से कई लोगों को कराया मुक्त

3. पेट्रोल-डीजल खरीदने पर अब नहीं मिलेगा कैशबैक

Image result for new rules in india after 1 october

एसबीआई क्रेडिट कार्ड से पेट्रोल-डीजल खरीदने पर अब आपको 0.75 फीसदी कैशबैक नहीं मिलेगा। इस बात की जानकारी देने के लिए एसबीआई अपने ग्राहकों को मैसेज भेजकर सूचना भी दे रहा है कि वो अपनी इस सूविधा को अब बंद करने जा रहा है। दरसल अभी तक एसबीआई के क्रेडिट कार्ड के जरिए पेट्रोल-डीजल खरीदने पर ग्राहकों को 0.75 प्रतिशत कैशबैक मिलता था। लेकिन अब एचपीसीएल, बीपीसीएल और आईओसी ने कैशबैक स्कीम को वापस लेने का निर्देश दिया है।

4. पेंशन नीति में भी हुए बदलाव

Image result for pension

सरकार ने कर्मचारियों के पेंशन पॉलिसी में भी बदलाव करने का फैसला लिया है । नए नियम के तहत अगर किसी कर्मचारी की सर्विस को 7 साल पूरे हो गए हैं और उसकी मृत्यू हो जाती है तो उसके परिजनों को बढ़े हुए पेंशन का फायदा मिलेगा।

5. कुछ चीजों पर जीएसटी की दरें हुआ सस्ती

Image result for gst

एक अक्टूबर से कई चीजों पर जीएसटी की दरें भी सस्ती हो जाएंगी। अब 1000 रुपए तक किराए वाले पर टैक्स नहीं देना होगा। इसके बाद 7500 रुपए तक टैरिफ वाले रूम के लिए किराए पर अब सिर्फ 12 प्रतिशत जीएसटी देना होगा। इसके अलावा जीसीएसटी काउंसिल ने 10 से 13 सीटों तक पेट्रोल-डीजल वाहनों पर सेस को घटा दिया है।

पाकिस्तान ने भेजा मनमोहन सिंह को निमंत्रण, जानिए क्या फैसला लिया…

6. इन चीजों पर बढ़ेगी जीएसटी की दरें

Image result for gst

रेल गाड़ी के सवारी डिब्बे और वैगन पर जीएसटी की दर को 5 फीसदी से बढ़ाकर 12 प्रतिशत कर दिया गया है। वर्तमान में इस पर 18 प्रतिशत जीएसटी है जिसे अब बढ़ाकर 28 फीसदी कर दिया गया है। इसमें टैक्स के अलावा 12 फीसदी का अतिरिक्त सेस भी लगाया गया है।

7. कॉरपोरेट टैक्स में होगी कटौती

Image result for new rules corporate tax after 1 october

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने भारती कंपनियों के लिए कॉरपोरेट टैक्स में बड़ी कटौती की घोषणा की हैं। जिसके बाद कॉरपोरेट टैक्स को सरकार ने 30 फीसदी से घटाकर 22 फीसदी कर दिया है। 1 अक्टूबर के बाद सेटअप किए मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के पास 15 फीसदी टैक्स भरने का विकल्प होगा।

8. जीएसटी रिटर्न का नया फॉर्म जारी

Image result for gst returns

पांच करोड़ से ज्यादा सालाना टर्नओवर वाले कारोबारियों को अब जीएसटीआर-1 की जगह जीएटी एएनएक्स-1 फॉर्म भरना पड़ेगा । छोटे कारोबारियों के लिए यह फॉर्म जनवरी 2020 से अनिवार्य हो जाएगा। कॉरपोरेट टैक्स में घोषित कटौती भी एक अक्तूबर से लागू हो जाएगी।