Mukhtar Ansari का नया ठिकाना बांदा जेल की बैरक नम्बर-15

उत्तर प्रदेश की पुलिस Mukhtar Ansari को पंजाब की रोपड़ जेल से बांदा जेल लेकर आ रही है। मुख्तार को बांदाजेल की बैरक नम्बर 15 में रखा जायेगा। जेल प्रशासन सूत्रों के अनुसार 2017 में जब मुख्तार को यहां लाया गया था, तब भी उसे बैरक नम्बर 15 में ही रखा गया था।

बांदा की जेल यू हीं बांदा की जेल नही कहलाती। बांदा जेल किसी काला पानी की सजा से कम नही है। ये वो जेल है जहाँ बड़े बड़े माफिया डॉन,चंबल के खतरनाक डकैत सजा काट चुके हैं, और अभी भी उनके गैंग के तमाम खतरनाक अपराधी इसी जेल में बंद हैं। बांदा जेल में डकैत ददुआ, गौरी यादव, संग्राम सिंह,और 7 लाख के इनामी बलखड़िया गैंग के कई सदस्य अभी भी बंद हैं,जिन पर सैकड़ो आपराधिक मामले दर्ज हैं।

यही वो जेल है जहाँ कुंडा के विधायक राजा भैया, इलाहाबाद के बाहुबली अतीक अहमद,शीलू हत्याकांड का आरोपी विधायक पुरूषोत्तम द्विवेदी और नोएडा का  गैंगस्टर अनिल दुजाना भी इसी जेल में रह चुका है।

PF का पैसा निकालने से पहले, ये बातें आपको जानना है…

बांदा जेल बुंदेलखंड का वह इलाका है जहां आम लोग भी बड़ी मुश्किल से गुजारा कर पाते है,तो ऐसे में यहां की जेल का मंजर क्या होगा ये सोचने की बात है। बांदा जेल में 600 कैदियों के रखने की व्यवस्था है,बावजूद इसके,यहां दोगुने (1200) कैदी बन्द हैं। बांदा जेल में बैरक नम्बर15 यहां का सबसे सुरक्षित बैरक माना जाता है, इसीलिए Mukhtar Ansari को इसी बैरक में रखा जाएगा।

Mukhtar Ansari को बांदा जेल लाने से पहले आईजी, डी एम आनंदकुमार सिंह और एसपी डॉ0 एस एस मीणा ने पुलिस फोर्स के साथ जेल परिसर में सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया,साथ ही जेल बाउंड्रीवाल पर हर 10-15 फिट की दूरी पर अतिरिक्त सुरक्षा कर्मियों की तैनाती की गई है। सीसीटीवी कैमरों को भी चेक करवाया गया है।

अनूप शुक्ला

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है