बिहार के गया में नक्सलियों ने सामुदायिक भवन को उड़ाया, छोड़ गए ये संदेश

0
295
gaya-naxals-demolish-community-center-at-gaya

गया: बिहार के गया जिले के डुमरिया थाना क्षेत्र के बोधि बिगहा गांव में जिस सामुदायिक भवन को विस्फोट कर उड़ा दिया गया उस सामुदायिक भवन में थाना खोला जाना था। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने इस सामुदायिक भवन का शिलान्यास किया था। बीती देर रात लगभग ग्यारह बजे ग्राम बोधीबिगहा, थाना- डुमरिया, जिला- गया में नक्सलियों द्वारा समुदायिक भवन को आईईडी लगाकर ध्वस्त किया गया।

पुलिस के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि रविवार की रात हथियार बंद नक्सलियों का एक दस्ता बोधिबिगहा गांव में पहुंचा और वहां स्थित सामुदायिक भवन को विस्फोटक लगाकर उड़ा दिया। बताया जा रहा है कि इस घटना के बाद भवन पूरी तरह क्षतिग्रस्त हेा गया है। घटना को अंजाम देने के बाद नक्सलियों का दस्ता गोलीबारी करते हुए गांव से निकल गया। इस घटना में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।

डुमरिया के थाना प्रभारी विमल कुमार ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि नक्सलियों ने वहां एक हस्तलिखित पर्चा भी छोड़ा है, जिसमें घटना की जिम्मेदारी लेते हुए कई तरह की चेतावनी दी गई है। साथ ही नक्सलियों ने पूर्व एमएलसी अनुज सिंह के खिलाफ पर्चा भी छोड़ा है जिसमें पूर्व एमएलसी अनुज सिंह को पुलिस की दलाली बंद करने की धमकी दी है।

कौन हैं एमएलसी अनुज सिंह…

डुमरिया के बोधिबिगहा के निवासी अनुज कुमार सिंह पूर्व विधान पार्षद है और गया शहर में रहकर ठेकेदारी करते हैं। हाल ही में अनुज ने भाजपा छोड़कर सीएम नीतीश के समक्ष जदयू की सदस्यता ली थी और पार्टी ने उन्हें जदयू के प्रदेश उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी है। सीएम नीतीश ने जदयू में शामिल कराते हुए उन्हें पूर्व सीएम जीतनराम मांझी की इमामगंज से जीत सुनिश्चित कराने की जिम्मेदारी सौंपी थी। इमामगंज से जीतनराम मांझी की जीत के बाद नक्सली संगठन ने इस घटना को अंजाम दिया है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक इस भवन में थाना खोले जाने की योजना थी, जिससे नक्सलियों ने इसे निशाना बनाया है। पुलिस नक्सलियों के खिलाफ छापेमारी अभियान चला रही है।