मुस्लिम पक्षकार हाजी महबूब का अयोध्या मामले को लेकर एक बड़ा बयान सामने आया उन्होने कहा है कि….

0
22

अयोध्या राम जन्मभूमि के मामले में सुप्रीम कोर्ट में मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ दाखिल

अयोध्या राम जन्मभूमि मामले में सियासत गर्मा रही है आपको बतादें कि हिन्दू महासभा और  मुस्लिम पक्ष समेत कई संगठनों ने सुप्रीम कोर्ट में मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ दाखिल की है। बतादें कि कोर्ट की सुनवाई पूरी हो चुकी है अब अयोध्या मामले पर फैसला भी जल्दी ही आ जाएगा। जिसका सभी को बेसब्री से इंतजार है।

मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ मुस्लिम पक्ष ने सुप्रीम कोर्ट में सीलबंद लिफाफे में कोर्ट में दाखिल कर दिया है।

तो वही मुस्लिम पक्षकार हाजी महबूब का अयोध्या मामले को लेकर एक बड़ा बयान सामने आया है उन्होने कहा है कि अगर फैसला हमारे हक में आता है तो हम वहां मस्जिद नहीं बनाएंगे, सिर्फ बाउंड्री करके छोड़ देंगे। उन्होंने कहा कि मुल्क की स्थिति, अमन चैन ज्यादा जरूरी है। साथ ही कहा कि हम पहले भी चाहते थे कि मस्जिद की जगह छोड़कर हिंदू पक्ष मंदिर बनाए हमें कोई ऐतराज नहीं। मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ मुस्लिम पक्ष ने सुप्रीम कोर्ट में सीलबंद लिफाफे में कोर्ट में दाखिल कर दिया है।

मुस्लिम पक्षकार हाजी महबूब

वो वही चाहते है जो बहस में कहा था कि उन्हें विध्वंस से पहले की वाली बाबरी मस्जिद चाहिए यानी विवादित जगह पर बाबरी मस्जिद ही चाहिए, वो भी वैसी, जैसी 1992 में 6 दिसंबर की सुबह तक थी। साथ ही हिन्दू महासभा के मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ में कहा गया है कि अयोध्या में जन्मस्थान पर राम मंदिर के निर्माण पर पूरे मंदिर की व्यवस्था के लिए सुप्रीम कोर्ट एक ट्रस्ट बनाए। इसके साथ ही इसका पूरा उपक्रम सुप्रीम कोर्ट के जरिए नियुक्त एडमिनिस्ट्रेशन के जरिए हो। साथ ही निर्मोही अखाड़े ने अपने मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ में मंदिर बनाने के साथ ही रामलला की सेवा, पूजा और व्यवस्था की जिम्मेदारी के अधिकार की मांग की है। और निर्मोही अखाड़े ने इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला बरकरार रखने की बात भी कही है।