उत्तराखंड में 18-44 आयु वर्ग के सभी लोगों के कोरोना वायरस टीकाकरण अभियान में गति लाने के लिए उत्तराखंड सरकार अब निजी अस्पताल और औद्योगिक इकाइयों के बीच समन्वय स्थापित करेगी। इस संबंध में बीते दिन देहरादून, Haridwar, नैनीताल और Udhamsinghnagar के निजी Medical Institutions और औद्योगिक प्रतिनिधियों के साथ स्वास्थ्य महानिदेशक Dr. Tripti Bahuguna ने एक बैठक की, बैठक के बाद Dr. Tripti ने बताया कि उत्तराखंड में 18-44 आयु वर्ग के लोगों की संख्या 50 लाख के करीब है और इनके लिए केंद्र सरकार से उपलब्ध हो रहे Corona Virus संक्रमण टीकों से टीकाकरण कार्यक्रम को संपादित करने में लग रहे ज्यादा समय को देखते हुए निजी Hospitals और प्रमुख औद्योगिक इकाइयों के बीच समन्वय स्थापित करने के लिए विचार-विमर्श किया गया।

बैठक में उत्तराखंड प्रतिरक्षण अधिकारी Dr. Kuldeep Mertolia, यूएनडीपी और World Health Organization के प्रतिनिधियों सहित निजी अस्पताल, भारतीय चिकित्सा संघ और अंबुजा, Mahindra Group, हीरो होंडा सहित विभिन्न उद्योग संस्थानों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के निदेशक Dr. Saroj Naithani ने बताया कि उत्तराखंड में 45 वर्ष से ज्यादा उम्र के नागरिकों के कोरोना टीकाकरण कार्यक्रम के दौरान कुल 131 निजी स्वास्थ्य इकाइयों द्वारा भी कोविड-19 टीका लगाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अभी 18-44 आयु वर्ग के लोगों के कोविड-19 टीकाकरण का कार्यक्रम चार निजी स्वास्थ्य इकाइयों में किया जा रहा है। जबकि, 27 निजी चिकित्सालयों द्वारा कोरोना वायरस टीका क्रय करने का काम आरम्भ कर दिया है।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के निदेशक Dr. Saroj Naithani ने बताया कि बैठक में इस बात पर विशेष जोर दिया गया कि प्रमुख औद्योगिक इकाइयां निजी स्वास्थ्य संस्थानों में अपने कर्मचारियों और उनके आश्रितों को Corona Virus टीकाकरण के लिए प्रेरित करें जिससे कोरोना वायरस टीकाकरण का काम जल्द पूरा हो सके। बैठक में मौजूद औद्योगिक इकाइयों ने सुझाव दिया कि Uttarakhand Government निजी हॉस्पिटल में कोरोना वायरस टीकाकरण के लिए यूजर्स चार्ज निर्धारित कर दे।

यह भी पढ़ें: UP विधानसभा चुनाव से पहले Yogi Cabinet में होने जा रहे हैं ये फेरबदल

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है