आतिश के समर्थन में उतरे लेखकों ने आरोंप लगाया है कि पीएम मोदी के खिलाफ लिखे लेख के कारण भारत की सरकार द्वारा उन्हें महज एक निशाना बनाया जा रहा है।

प्रसिद्ध लेखक आतिश अली तासीर के समर्थन में अब सलमान रुश्दी, आरोहन पामुक, अमिताव घोष जैसे बड़े लेखकों ने आवाज उठाई हैं। साथ ही ओसीआई कार्ड को वापिस से जारी कर देने की मांग की है। दरअसल लेखक आतिश अली तासीर पर पिता के पाकिस्तानी मूल के होने की सूचना को गुप्त रखने का आरोप लगाया गया है। जिसके चलते भारत सरकार द्वारा कुछ दिनों पहले उनका ओसीआई कार्ड रद्द कर दिया गया है। बता दें कि अमिताव घोष के साथ-साथ आतिश के लिए ओसीआई कार्ड वापिस जारी करने की मांग मे झुंपा लाहिरी, क्रिस्टीन अमानपोर, ओरहान पामु, चिमांडा अडीछी, माइकल चाबोनस जॉन कोएत्जी जैसे लेखकों का नाम सामने आया है।

इमरान खान: पाकिस्तान नहीं कर पाएगा तरक्की!

तासीर के समर्थन में कई बड़े लेखकों ने उठाई आवाज

सूत्रों के मुताबिक आतिश के समर्थन में उतरे लेखकों ने आरोंप लगाया है कि पीएम मोदी के खिलाफ लिखे लेख के कारण भारत की सरकार द्वारा उन्हें महज एक निशाना बनाया जा रहा है। सरकार का यह रुख भारतीय मूल या विदेशी लेखकों को भारत में आने से रोकने की विचारधारा को बढ़वा दे रहा है।

महाराष्ट्र में शिवसेना-NCP-कांग्रेस के बीच बनी बात ! कौन होगा मुख्यमंत्री ?

तासीर के समर्थन में कई बड़े लेखकों ने उठाई आवाज

बता दें कि इस मामले पर अपना पक्ष रखते हुए आतिश अली तासीर ने कहा कि सरकार के खिलाफ बोलने की वजह से उन्हें देश से निकाला जा रहा है। उन पर ऐसी कारवाई की जा रही है। बता दें कि बीते हफ्ते ही सरकार द्वारा आतिश का ओवरसीज सिटिजन ऑफ इंडिया कार्ड वापिस ले लिया गया था। जिसकी पूर्ण रुप से सूचना देते हुए गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि नागरिकता अधिनियम के तहत तासीर ओसीआई कार्ड के लिए योग्य नहीं हैं। क्योंकि ओसीआई कार्ड किसी ऐसे व्यक्ति को नहीं दिया जा सकता है जिसके माता-पिता या दादा-दादी पाकिस्तानी हों और उन्होंने यह सूचना साफ रुप से गुप्त रखी हों।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here