इस बार 26 मई (बुधवार) को साल का पहला पूर्ण Chandra Grahan लगने जा रहा है। ग्रहों की चाल की दृष्टि से मई का महीना बेहद महत्वपूर्ण है। हालांकि इस ग्रहण का सूतक काल भी मान्य नहीं होगा। क्योंकि कहा जा रहा है कि यह भारत में न के बराबर है। जो ग्रहण भारत में नहीं दिखता उसका सूतक काल का विचार नहीं माना जाता है।
जानें, कहां दिखेगा Chandra Grahan
यह ग्रहण साउथ एशिया, ईस्ट एशिया, आस्ट्रेलिया, नॉर्थ अमेरिका, साउथ अमेरिका, अटलांटिक और पैसेफिक महासागर में दिखाई देगा।
• पहली उपछाया: 14:18 बजे
• पूर्ण ग्रहण शुरू होगा: 16:43
• अधिकतम: 16:48
• ग्रहण का अंत: 16:54
भारत के समय के अनुसार यह दोपहर 2:17 बजे शुरू होगा और शाम को 7:19 बजे तक रहेगा। Chandra Grahan पंचांग के अनुसार 26 मई 2021 बुधवार के दिन लगने जा रहा है। मई के आरंभ में ही बुध और शुक्र का गोचर वृष राशि में हुआ था। 14 मई 2021 को वृष राशि में सूर्य का राशि परिवर्तन होगा। इसके बाद 26 मई को बुध मिथुन राशि में आ जाएंगे। 28 मई को शुक्र भी वृष राशि को छोड़कर मिथुन राशि में प्रवेश करेंगे। 30 मई को मिथुन राशि में बुध वक्री हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें: Hanuman jayanti पर राशि अनुसार बजरंग बली को लगाएं भोग

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है