Coronavirus ने एक तरफ जहां देश दुनिया को परेशान किया हुआ है वहीं त्यौहार का सीज़न भी शुरू हो चुका है। चंद्रमा की बढ़ती-घटती कलाओं के कारण हर महीने पूर्णिमा व Amavasya तिथि पड़ती है। हर माह कृष्ण पक्ष की आखिरी तारीख़ को Amavasya पड़ती है। इस बार चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की Amavasya तिथि 12 अप्रैल 2021 (सोमवार) को है। सोमवार को पड़ने वाली Amavasya को Somvati Amavasya कहा जाता है।

इस साल 2021 में सिर्फ एक Somvati Amavasya पड़ रही है। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, Amavasya के दिन पवित्र नदियों में स्नान से पुण्य की प्राप्ति होती है। इस दिन पितरों का श्राद्ध व तर्पण आदि कार्य भी किए जाते हैं। शास्त्रों में वर्णित है कि Somvati Amavasya के व्रत और पूजा के उपायों से सुहागनों को सुख-सौभाग्य की प्राप्ति होती है। इसके अलावा पति की लंबी आयु का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है।

जानें, आखिर क्यों इस Train में कोई यात्री नहीं कर रहा है सफर

सुखसमृद्धि पाने के लिए Somvati Amavasya के दिन करें ये उपाय

  • इस दिन Peepal और Bhagwan Vishnu की पूजा तथा उनकी 108 प्रदक्षिणा करने का विधान है। मान्यता है कि ऐसा करने से संतान निरोगी व चिरंजीवी होती है।
  • Amavasya के दिन स्नान-दान का विशेष महत्त्व होता है। इस दिन शांत रहकर स्नान करने से हजार गौदान के बराबर फल मिलता है।
  • इस दिन Tulsi की 108 परिक्रमा करने से दरिद्रता मिटती है।
  • Somvati Amavasya के दिन सुहागिनें अपने पतियों की लंबी उम्र के लिए व्रत रखकर पीपल की पूजा करती हैं। इसके बाद धान, पान व खड़ी Haldi को मिला कर उसे विधानपूर्वक Tulsi पर अर्पित करना चाहिए।
  • शास्त्रों के अनुसार, Somvati Amavasya के दिन पवित्र नदियों में स्नान करने वाला व्यक्ति समृद्ध, स्वस्थ्य होता है।
  • इस दिन तीर्थ तट पर पितृओं के पिण्ड दान व तर्पण करने से पितृश्राप व पितृदोष से मुक्ति मिलती है।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है