OHE line नीचे होने के कारण Metro के छतों की डिजाइन में किया जाएगा बदलाव

वक़्त की बचत और बेहतर सुविधा की वजह से Metro लोगों की पसंद बनती जा रही है। देश की अन्य Metro projects से आगरा और कानपुर की Metro अलग ही दिखेगी। OHE Line Track के नीचे होने के कारण इन दोनों स्थानों की ट्रेनों की डिजाइन फ्लैटेड की जा सकेगी। मेट्रो को देखते हुए कानपुर और आगरा में OHE Line Track के साथ बिछाए जाने के टेंडर हो चुके हैं।

आगरा और कानपुर दोनों परियोजनाओं में Metro के रैक की डिजाइन खूबसूरत होगी। इसके लिए यूपीएमआरसी के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने इंजीनियरों के साथ बात की है। कई तरह के डिजाइन का विकल्प मांगा है। खास तौर पर छतों की डिजाइन आकर्षक बनाने की तैयारी है। दूसरी ओर दोनों परियोजनाओं में लिफ्ट लगाने का टेंडर भी स्वीकृत हुआ है। यह काम जॉनसन कंपनी को दिया गया है।

अब यह काम जल्द ही शुरू हो जाएगा। पहले ओएचई लाइनें Metro trains की छतों के ऊपर से गुजरती थीं। इसलिए ट्रेनों की छतों को गोल बनाना पड़ता था। इससे अतिरक्त खर्च भी होता था। छतों की डिजाइन एक ही तरह की करनी पड़ती थी। अब OHE line नीचे होने के कारण छतों की डिजाइन बदली जा सकेगी। इसे बिल्कुल फ्लैट बनाया जा सकेगा, जिससे खर्च में भी कटौती होगी।

कानपुर और Agra Metro के लिए कई प्रयोग किए गए हैं। इनसे कई लाभ होंगे। खर्च भी कम होगा और काम भी तेजी से होगा। कानपुर में निर्माण की रफ्तार शुरू से तेज है। हम लगातार अपनी सीमाओं और क्षमताओं को बढ़ाने के लिए प्रयासरत हैं।

आईआईटी से लेकर गुरुदेव तक सभी 5 Metro stations के पहले तल का आधार तैयार हो चुका है। Kalyanpur, SPM Hospital, University और Gurudev Metro Stations के सभी डबल टी गर्डर रखे जा चुके हैं। बताते चलें कि 9 Metro Stations के लिए 434 Double tee girder का परिनिर्माण होना था, जिसमें से 332 टी गर्डर रखे जा चुके हैं।

आईआईटी से मोतीझील के बीच सात किलोमीटर तक 400 पिलर खड़े किए जा चुके हैं। अब सिर्फ दो किलोमीटर का काम बचा है। अगर निर्माण की यही रफ्तार रही तो नवंबर में मेट्रो का ट्रायल मुश्किल नहीं होगा। गुरुदेव चौराहे तक Double tee girder डालने का काम भी पूरा हो चुका है। पहले चरण में 513 पिलर का निर्माण होना था, जिसमें बाकी 20 पिलर की ही नींव पड़नी है। बाकी 93 पिलर खड़े किए जाने का काम चल रहा है।

यह भी पढ़ें: Private: भारत ने चीन को दिया कड़ा संदेश

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है