मेक इन इंडिया: टॉम क्रूज वाला फाइटर प्लेन उड़ाएगी एयरफोर्स, भारत में होगा तैयार

0
30

बोइंग ने भारतीय पीएसयू हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) और महिंद्रा डिफेंस सिस्टम्स (MDS) के साथ F/A-18 सुपर हॉर्नेट बनाने की घोषणा की है.

सिद्ध हॉलीवुड अभिनेता टॉम क्रूज अपनी नई एक्शन-ड्रामा फिल्म ‘टॉप गन मैवेरिक’ लेकर आने वाले हैं. यह फिल्म साल 1986 में आई फिल्म ‘टॉप गन’ का सीक्वल होगी. अपने आप में यह खास बात है कि यह सीक्वल, पहली फिल्म के 36 सालों बाद आ रहा है. इसका ट्रेलर रिलीज हो चुका है. और सिनेप्रेमी मान रहे हैं कि फिल्म भी ऐसे ही प्रभावशाली होगी.

ऐसे में टॉम क्रूज के फैंस को इस फिल्म का बेसब्री से इंतजार है. लेकिन इसके ट्रेलर में एक चीज ऐसी भी है, जिसपर कई लोगों का ध्यान जम चुका है. फिल्म में टॉम क्रूज बोइंग F/A-18 सुपर हॉर्नेट विमान उड़ाते नज़र आने वाले हैं. इससे पहले वाली फिल्म टॉप गन में टॉम क्रूज ने लॉकहीड मार्टिन का एफ-14 फाइटर विमान उड़ाया था.

भारतीय वायुसेना के पायलट भी उड़ाएंगे टॉम क्रूज वाला फाइटर प्लेन
वैसे टॉमक्रूज अकेले नहीं हैं, जो इस विमान को उड़ाते दिख रहे होंगे. भारतीय वायुसेना के पायलट भी जल्द ही ये सुपर हार्नेट विमान उड़ाते दिखेंगे. केंद्रीय रक्षा मंत्री ने पिछले साल वैश्विक एविएशन कंपनियों को भारत में 110 लड़ाकू विमान बनाने की जानकारी वाला शुरुआती अनुरोध (RAFI) भेजा था.

Image result for boeing company

दो भारतीय कंपनियों के साथ बोइंग ने किया करार
इस अनुरोध (RAFI) में विदेशी सहयोग के साथ भारतीय वायुसेना के लिए 110 सिंगल अथवा डबल इंजन फाइटर जेट विमानों का मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट के तहत निर्माण की अनुमति दे दी है. इसके साथ ही, बोइंग ने भारत में F/A-18 सुपर हॉर्नेट विमानों के भारत में निर्माण के लिए भारतीय PSU हिंदुस्तान एययरोनॉटिक्स लिमिटेड HAL और महिंद्रा डिफेंस सिस्टम (MDS) के साथ साझेदारी की घोषणा की है.

Image result for f 18 super hornet

सुपर हॉर्नेट मेक इन इंडिया का प्रस्ताव दुनिया में भारत को डिफेंस तकनीक का प्रोडक्शन सेंटर बनाने के लिए उठाया गया कदम है जिसका प्रयास भारत को नए और अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस करना है. इसका इस्तेमाल अन्य कार्यक्रमों जैसे भारत के एडवांस मीडियम कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (AMCA) कार्यक्रम के लिए भी किया जा सके.

 

बोइंग, मिलिट्री एयरक्राफ्ट बनाने वाली कंपनियों में सबसे आगे है. उसे इसमें लॉकहीड मार्टिन, SAAB, दसॉ और रूसी एयरक्राफ्ट कॉर्पोरेशन MiG के साथ गिना जाता है. यह भारतीय वायुसेना को जल्दी ही 110 फाइटर जेट देने वाला है. यह डील 15 बिलियन अमेरिकी डॉलर की हो सकती है.