यूपी में होने वाले पंचायत चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों को झटका लग सकता है। यह झटका तब लगेगा अगर कोई विरोधी या पड़ोस वाला आपकी शिकायत करेगा। राज्य निर्वाचन आयोग ने साफ कहा कि उन प्रत्याशियों का पर्चा खारिज हो जाएगा। जो प्रचार के लिए गांव की दीवारों पर अपना प्रचार करेंगे।  पंचायत चुनाव में दिवार पर लिखने पर पूरी तरह रोक लगाई गयी हैं। प्रत्याशियों को नामांकन पत्र में झूठी खबर देने से बचने को भी कहा गया है और साथ ही खर्च की राशि से ज्यादा खर्च करने पर भी पर्चा खारिज हो सकता।

इस बार ये कागज़ात हैं जरूरी

कुर्सी के लिए दावेदारों ने लोगो को यह ऑफर देकर ललचाया 

नामांकन पत्र के साथ शपथ पत्र और नो ड्यूज देना भी जरूरी है। चुनाव आयोग ने सख्त हिदायत दी है कि आगनबाड़ी महिला कार्यकर्ता, सहायिका, आशा, शिक्षा मित्र, किसान मित्र, ग्राम रोजगार सेवक आदि। पंचायत चुनाव नहीं लड़ सकेंगे। उम्मीदवार की उम्र 21 साल से कम नहीं होनी चाहिए और मतदाता की उम्र 18 वर्ष से कम नहीं होगी।

कितना खर्च कर सकते हैं प्रत्याशी

इस पंचायत चुनाव में नामांकन करने वाले ग्राम प्रधान और बीडीसी पद के दावेदार 75,000-75000 रुपये, ग्राम पंचायत के सदस्य 10 हजार रुपये और जिला पंचायत सदस्य पद के लिए 1,50,000 रुपये से ज्यादा प्रचार में खर्च नहीं कर सकतें है ।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है