Corona virus कहने को एक virus है लेकिन इसे तबाही कहना ज़्यादा सही होगा। Corona एक ही पल में न जाने कितने लोगों को मौत के आगोश में ले गया और न जाने कितने ही बच्चों को अनाथ कर गया। Corona की तीसरी लहर बच्चों के लिए खतरनाक बताया जा रहा है। उससे पहले दूसरी लहर में ही Corona ने कई बच्चों की जिंदगी से हंसी-खुशी छीन ली।

Corona के कारण कई बच्चों के सर से मां-बाप का साया उठ गया तो कई बच्चे अनाथ हो गए। एक रिपोर्ट के मुताबिक एक अप्रैल 2020 से लेकर इस साल जून तक करीब 3621 बच्चे अनाथ हो गए जबकि 26,176 बच्चों के सर से माता-पिता का साया छिन गया। सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दायर कर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने इस संबंध जानकारी दी है। आयोग ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि अनाथ हुए बच्चों में जरूरी नहीं कि सभी के गार्जियन की मौत Corona से ही हुई हो कोई अन्य कारण भी हो सकते हैं।

राज्यों के हिसाब से देखें तो महाराष्ट्र में 7,084 बच्चों को देखभाल और सुरक्षा की जरूरत है। वहीं दूसरे नंबर पर उत्तर प्रदेश है। यहां 3172 बच्चे प्रभावित हुए हैं जबकि राजस्थान में 2482 बच्चे शामिल हैं। आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक हरियाणा में 2438, मध्य प्रदेश में 2243 और केरल में 2002 बच्चों शामिल हैं। Child protection commission की ओर से दायर हलफनामे के मुताबिक जिन 30,071 बच्चों को देखभाल और सुरक्षा की जरूरत है उनमें से 15,620 लड़के है जबकि 14,447 लड़कियां और चार ट्रांसजेंडर शामिल हैं।

आयोग के हलफनामे में सबसे बड़ी बात यह है कि 11,815 बच्चे 8-13 आयु वर्ग के हैं जबकि 4-7 आयु वर्ग में 5,107 बच्चे शामिल हैं। सुप्रीम कोर्ट के हालिया आदेश के बाद राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की ओर से ‘बाल स्वराज’ पोर्टल पर आंकड़े अपलोड किए गए थे।

यह भी पढ़ें: PM Modi ने देशवासियों से किया Free vaccine देनें का वादा, जानें पूरी ख़बर

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है