Supreme Court में आज 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने की याचिका पर सुनवाई होगी। Advocate ममता शर्मा द्वारा दायर याचिका में CBSE और CISCE द्वारा आयोजित 12वीं की परीक्षाओं को रद्द करने की मांग की गई है। ममता शर्मा द्वारा दायर याचिका में समय सीमा के अंदर फैसला सुनाने के लिए एक objective methodology का आदेश मांगे गए हैं।

Supreme Court में टोनी जोसेफ द्वारा दायर दूसरे याचिका पर भी बातचीत करेगी, जिसमें बताया गया है कि 12वीं का एग्जाम को रद्द नहीं किया जाना चाहिए। जबकि, शिक्षाविदों और संस्थानों के प्रमुखों का एक बहुत बड़ा वर्ग जो एग्जाम आयोजित करने के पक्ष में है। वहीं, Education Experts का कहना है कि एग्जाम रद्द नहीं किया जाना चाहिए व डिजिटल माध्यमों का उपयोग करके परीक्षा आयोजित की जानी चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट के Justice AM Khanwilkar व जस्टिस दिनेश माहेश्वरी की पीठ ने पिछले 28 मई 2021को इस मामले को रोक दिया था। वहीं, Supreme Court ने यह भी कहा था कि CBSE इस मामले पर 1 जून 2021 को फैसला ले सकता है। खबर के मुताबिक जब याचिकाकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट के Justice AM Khanwilkar व जस्टिस दिनेश माहेश्वरी से कहा था कि सुप्रीम कोर्ट इस मामले को संज्ञान ले सकती है, तो वहीं Justice AM Khanwilkar और जस्टिस दिनेश माहेश्वरी ने कहा कि आशावादी बनें।

यह भी पढ़ें: कम हो रही है Corona की रफ़्तार, मौतों के आंकड़ों में भी आई कमी

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है