दीपावली एक ऐसा पर्व है जो भारत में बड़ी ही धूमधाम और शोरशराबे के साथ हर साल मनाई जाती है।

दीपों और खुशियों का पर्व यानी दीपावली हर साल कार्तिक मास की अमावस्या को मनाई जाती है बतादें कि इस बार दिवाली 27 अक्टूबर को मनाई जाएंगी। दीपावली एक ऐसा पर्व है जो भारत में बड़ी ही धूमधाम और शोरशराबे के साथ हर साल मनाई जाती है। आपको बतादें कि दिवाली आते ही बाजारो की रौनक बढ़ जाती है साथ ही पूरा शहर गांव हर जगह दिए की रोशनी होती है। Related image

दीवाली पर सभी लोग माता लक्ष्मी और गणेश की पूजा अर्चना करते है।

इस मौके पर लोग अपने घरों को साफ सुथरा कर उनकी रंगाई पुताई कई महीने पहले से शुरु कर देते है। दरअसल दीवाली पर सभी लोग माता लक्ष्मी और गणेश की पूजा अर्चना करते है। पूजा के समय नए कपड़े पहनकर पूजा करते है।

बतादें कि ऐसा माना जाता है कि इस दिन भगवान राम 14 वर्ष का वनवास पूरा कर अयोध्या लौटे थे उनके अयोध्या आने की खुशी में नगर वासियों ने गलियों चौराहों और घरों को घी के दिए जलाएगें। जब से दिवाली के दिन घी के दिए जलाने का प्रचलन हो गया।

पिछली साल की तरह इस साल भी सुप्रीम कोर्ट द्वारा पटाखों पर बैन लगा दिया गया है।

हर साल की तरह इस साल भी दिवाली के लिए पूजा का दो समय है। पहला समय फैक्ट्री और कारखानों के लिए तो दूसरा घर के लिए। इस बार फैक्ट्री, कारखानों में माता के पूजा के लिए उपयुक्त समय दोपहर 2:10 से 3:40 के बीच का है।

diwali 2019 जबकि दूसरा मुहूर्त शाम 6:40 से रात 8:40 बजे के बीच का है। भारत में पटाखों के बिना नहीं मनाई जाती है इसलिए पिछली साल की तरह इस साल भी सुप्रीम कोर्ट द्वारा पटाखों पर बैन लगा दिया गया है साथ ही ग्रीन पटाखे जारी कर दिया गया है। ग्रीन पटाखों को बाजार में जारी करने पर विचार किया जा रहा था इसी दिशा में वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद  ने ग्रीन पटाखों को बनाने में अह्म काम किया।